शुक्रवार, 16 मार्च 2012

त्वचा एलर्जीःलक्षण,कारण और निवारण

त्वचा आपकी खूबसूरती का आईना है। आकर्षक दिखने के लिए आप जितने भी जतन करती हैं, वे सब कहीं न कहीं त्वचा को जवां और कसावयुक्त बनाने के लिए किए जाते हैं। लेकिन अपनी स्किन को एलर्जी से बचाने के लिए आप क्या करती हैं? क्या आप जानती हैं कि एलर्जी से आपकी त्वचा बेहद खराब और बदसूरत हो सकती है? किन कारणों से होती है त्वचा में एलर्जी और कैसे इनसे बचें, बता रही हैं आरती मिश्रः

डर्मेटोलॉजिस्ट शेहला अग्रवाल के अनुसार, निम्न कारणों से भी हो सकती है एलर्जी- 

-कपड़ों से भी एलर्जी हो सकती है। 

 -कभी-कभी कपड़े पर इस्तेमाल होने वाला रंग यानी डाई, त्वचा में एलर्जी पैदा कर देती है। इससे त्वचा में खिंचाव आदि की समस्याएं होती हैं। 

-टैटू का त्वचा पर बुरा प्रभाव देखा गया है। इस तरह की शिकायतें आजकल आम हैं। दरअसल, अगर टैटू में इस्तेमाल होने वाली स्याही की क्वॉलिटी खराब हो तो इससे त्वचा में जलन होने लगती है। 

-मौसम में बदलाव भी एलर्जी का कारण हो सकता है। मौसम बदलने से हवा में पोलिन्स की संख्या बढ़ जाती है, जो त्वचा में एलर्जी का मुख्य कारण होती है। 

-अगर हेयर कलर में पीपीडी की मात्र ज्यादा हो तो उससे भी एलर्जी की संभावना बढ़ जाती है। 

कैसा होता है एलर्जी का असर 
एलर्जी से कुछ लोगों को कोई परेशानी नहीं होती, जबकि कुछ को उस स्थान पर दर्द, खुजली, छाले पड़ना, छाले फूटकर पानी निकलना, घाव हो जाना आदि समस्याएं हो जाती हैं। अगर सही समय पर इस पर ध्यान न दिया जाए तो त्वचा रोग भी बन सकते हैं। इसके अलावा कई बार प्लास्टिक की चीजों जैसे नकली आभूषण, बिंदी, परफ्यूम, चश्मे के फ्रेम, साबुन आदि से भी एलर्जी हो जाती है। इस तरह की एलर्जी को कॉन्टेक्ट डर्मेटाइटिस कहा जाता है। 

ऐसे बच सकती हैं एलर्जी से 
-घर से बाहर निकलें तो चेहरे और बाजुओं को ढकें। सन्सक्रीन जरूर लगाएं। 

-चेहरे को दिन में कई बार पानी से धोएं। इससे चेहरे पर लगी धूल-मिट्टी हट जाएगी। 

-ऐलोवेरा जेल या ऐलोवेरा से बनी क्रीम आदि का ही प्रयोग करें। 

-अगर कामकाजी हैं तो शाम को भी स्नान करें। इससे धूल आदि से होने वाली एलर्जी नहीं होगी। 

-फिल्टर्ड पानी का ही प्रयोग करें। 

अगर आपकी त्वचा का रंग लाल हो रहा है या फिर उसमें खुजली या रैशेज हो रहे हैं तो यह सब एलर्जी होने के लक्षण हैं। त्वचा में एलर्जी किसी को भी हो सकती है। एलर्जी का मुख्य कारण हमारी जीवनशैली और दिनचर्या है। साथ ही प्रदूषण जैसे कारक भी एलर्जी का कारण बन सकते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि खाने से, हवा से, पानी से, प्रदूषण से त्वचा एलर्जी का शिकार हो जाती है। चलिए, पहले ये जान लेते हैं कि एलर्जी होने के प्रमुख कारण कौन-कौन से हैं- 

हवा से होती है एलर्जी 
आप ऑफिस जाती हैं, बाजार या फिर बच्चों को स्कूल छोड़ने-लाने के लिए जब भी घर से बाहर निकलती हैं तो सीधे तौर पर हवा के संपर्क में आती हैं। प्रदूषण युक्त हवा आपकी त्वचा को बैक्टीरिया के संपर्क में ले आती है, जिससे एलर्जी होने का खतरा रहता है। इसके अलावा जिन घरों में अधिक धूम्रपान किया जाता है, वहां के लोगों को स्किन एलर्जी और एस्थमा जैसी बीमारियां होने का खतरा कई गुना अधिक रहता है। 

भोजन से भी होती है एलर्जी 
कई लोगों को किसी खास खाद्य पदार्थ के कारण एलर्जी होती है। जैसे कई बार बच्चों को गाय के दूध, मछली या फिर अंडे से एलर्जी हो जाती है। इसलिए यह जानना बेहद जरूरी है कि आपको किस चीज से एलर्जी हो रही है। कई बार तो ऐसा भी होता है कि जिस खाद्य पदार्थ से आपको एलर्जी हो, उससे जुड़े खाद्य पदार्थ समूह से एलर्जी हो। 

पानी से एलर्जी 
पानी को यूं तो जीवन कहा जाता है, पर अगर यह साफ नहीं है तो कई बीमारियों का जनक बन जाता है। इसमें मिले केमिकल्स आपके चेहरे की झुर्रियों का कारण बन सकते हैं। चूंकि ये शरीर द्वारा सीधे सोख लिए जाते हैं, इसलिए इनसे एलर्जी होने का खतरा भी अधिक होता है। पानी में जब क्लोरीन मिला होता है, तब वह अधिक नुकसानदेह हो जाता है। इसलिए कहा जाता है कि जब भी आप तैराकी करें तो उसके बाद साफ पानी से जरूर नहा लें। 

प्रदूषण से एलर्जी 
वातावरण में बढ़ता प्रदूषण एलर्जी होने के मुख्य कारणों में गिना जाता है। यह समस्या शहरों में अधिक है, क्योंकि यहां वायु प्रदूषण अधिक होता है, जिसके आप सीधे संपर्क में रहती हैं। इसके अलावा जल प्रदूषण भी एलर्जी का कारण बनता है। खराब जल का प्रयोग करने से यह शरीर को काफी नुकसान पहुंचा सकता है, जिसमें त्वचा में जलन, लाल चकत्ते पड़ना और फुंसियों जैसे दाने होना आम बात है। कुछ लोगों की त्वचा बेहद सेंसिटिव होती है। उन्हें किसी विशेष चीज के संपर्क में आने पर खुजली, जलन, दाने हो जाते हैं। 

अगर एलर्जी है तो ये मत करिए.. 
-त्वचा में खुजली न करें। 

-जिस साबुन का आप नियमित रूप से इस्तेमाल कर रही हैं, उसका इस्तेमाल करना बंद कर दें। साबुन के कारण त्वचा रूखी हो जाती है और खुजली बढ़ जाती है। 

-रोज नहाएं। डॉक्टर की सलाह से साबुन का इस्तेमाल करें। 

-शरीर को खुली हवा लगने दें। 

-सबसे महत्वपूर्ण बात, अगर आपको पता चल गया है कि किस चीज से आपको एलर्जी होती है तो उससे दूर रहें। 

-एलर्जी होने पर इन घरेलू उपायों को अपनाएं।

-फिटकरी के पानी से प्रभावित स्थान को धोकर साफ करें। -कपूर और सरसों का तेल लगाती रहें। 

-आंवले की गुठली जलाकर राख कर लें। उसमें एक चुटकी फिटकरी और नारियल का तेल मिलाकर पेस्ट बना लें। इसे लगाती रहें। 

-खट्टी चीजों, मिर्च-मसालों से परहेज बनाए रखें। 

-रोज सुबह नीबू का पानी पिएं। 

-चंदन, नीबू का रस बराबर मात्र में मिलाकर पेस्ट बनाकर लगाएं। 

डॉक्टर की राय अपनाएं, एलर्जी भगाएं.. 
-फल-सब्जियों का खूब सेवन करें। रोज 1 खजूर लें। सलाद खाएं। 

-एलर्जी होने पर त्वचा को केवल पानी से धोएं। साबुन या फेसवॉश का प्रयोग न करें। 

-कैलेमाइन लोशन फायदेमंद रहता है। 

-डॉक्टर की सलाह से एंटी-एलर्जिक दवाएं लें। अगर हाथों में एलर्जी हो गई है तो नाखूनों को छोटा रखें और बर्तन साफ करने या कपड़े धोने से पहले कॉटन के दस्ताने पहनें। 

एलर्जी के लक्षण 
-त्वचा का रंग बदलना, जैसे लाल धब्बे पड़ना। 

-खुजली होना। -फुंसी जैसे दाने हो जाना। 

-रैशेज या क्रैक पड़ना। 

 -जलन होना। 

 -त्वचा में खिंचाव पैदा होना -छाले पड़ना(हिंदुस्तान,दिल्ली,15.3.12)

8 टिप्‍पणियां:

  1. वाकई बड़ी खतरनाक होती है एलर्जी.....
    एक तो कोई निश्चित कारण पता करना ही बड़ा मुश्किल है...

    शुक्रिया इस लेख के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत उपयोगी जानकारी...इस समस्या से निपटने के कारगर उपाय भी हैं...आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही उपयोगी जानकारी ।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जानकारी से भरपूर पोस्ट किससे एलर्जी नहीं होती यह भी बताएँ:)

    उत्तर देंहटाएं
  5. कपूर और तेल का मिश्रण बहुत लाभ दायक है .पर हमें गरी के तेल में कपूर बताया गया था. सरसों के तेल में बनाना और भी आसान है,जानकारी हेतु आभार !

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।