गुरुवार, 26 जनवरी 2012

मसालों में छिपी है सेहत

जैसे सही मसाले आपके खाने के स्वाद को कई गुना बढ़ा देते हैं, ठीक वैसे ही मसालों की प्रकृति के बारे में सही जानकारी कई बीमारियों को आपसे कोसों दूर भगा सकती है। आप रोज जिन मसालों को उपयोग में लाती हैं, उनके फायदे अनेक हैं। आजमा कर तो देखिएः 

हींग: बढ़ती ठंड के कारण आप भी कफ की शिकार हो गई हैं तो हींग को पानी में उबालें। पानी जब हल्का गर्म रहे तो उसे छानकर उस पानी को पिएं। कफ की समस्या में कमी आप खुद महसूस करेंगी। इसके अलावा गैस की समस्या के कारण अगर पेट दर्द हो रहा है तो हींग में हल्का-सा नमक मिलाएं और उसे खाएं। पेट दर्द की परेशानी दूर हो जाएगी। तेजपत्ता: तेजपत्ता के तेज में एंटीफंगल और एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं और फंगल या बैक्टीरियल इंफेक्शन को दूर करने में यह कारगर होता है। 

लाल मिर्च: लाल मिर्च में एंटीऑक्सिडेंट्स होते हैं। ये कोलेस्ट्रॉल की बढ़ती मात्र पर अंकुश लगाते हैं और साथ ही कैलोरीज कम करने में भी मदद करते हैं। 

दालचीनी: यह शरीर में इंसुलिन के प्राकृतिक निर्माण को बढ़ावा देता है और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखता है। लौंग: दांत या मसूढ़े में दर्द है तो मुंह में एक लौंग रख लें। दर्द में लाभ मिलेगा। सीने में दर्द, बुखार, पेट की परेशानियां और सर्दी-जुकाम में भी लौंग फायदेमंद साबित होता है। 

इलायची: खीर या मिठाई आदि में आप इलायची के पाउडर का इस्तेमाल तो करती ही होंगी। पर क्या आपको मालूम है, मुंह की बदबू दूर करने में भी इलायची कारगर है। इसके अलावा पेट की समस्याओं को भी यह दूर करती है। अगर डायबिटीज की समस्या है तो साबुत इलायची खाएं। 

जीरा: जीरा आयरन का एक अच्छा स्नोत है और शरीर की रोगप्रतिरोधक क्षमता को मजबूत रखने में कारगर होता है। पेट खराब होने की स्थिति में पानी में जीरा उबालने के बाद उस पानी को छानकर पीने से लाभ मिलता है। 

अदरक: ठंड के मौसम में अदरक वाली चाय पीने की सलाह तो आपने हजार बार सुनी होगी। अदरक कफ और कोल्ड से बचाने का काम करता है। इसके अलावा यह पाचन तंत्र को भी मजबूत रखता है। 

करी पत्ता: रायते के स्वाद को बेहतर बनाने वाला करी पत्ता खून में शुगर की मात्र को कम करने में भी मददगार है। 

मेथी: अगर डायबिटीज की शिकार हैं तो हर दिन जरा-सी मेथी खाएं। असर जल्द ही महसूस करेंगी। इसके अलावा मेथी कोलेस्ट्रॉल कम करने में भी मददगार होती है। 

लहसुन: ठंड के मौसम में सेहतमंद और सर्दी-जुकाम से बचकर रहना है तो अपने खाने में लहसुन को शामिल करें। इसमें एंटीबायोटिक गुण होते हैं। इसके अलावा जोड़ों के दर्द को दूर करने में भी लहसुन वाला तेल फायदेमंद है। 

पीली सरसों: सरसों का तेल शरीर की मसाज में और बालों के सही विकास में उपयोगी माना जाता है। सरसों ओमेगा-3 फैटी एसिड का अच्छा स्नोत है। यह आयरन, जिंक, मैग्नीशियम, कैल्शियम और प्रोटीन से भी भरपूर होता है। 

काली मिर्च: सर्दी-जुकाम और इंफेक्शन से बचाने के अलावा काली मिर्च मांसपेशियों के दर्द को दूर करने में भी कारगर होती है। काली मिर्च के इस्तेमाल से पाचन तंत्र से जुड़ी परेशानियों से भी छुटकारा पाया जा सकता है। 

हल्दी: तमाम दवा खाने के बाद भी कफ से निजात नहीं मिल रही है तो हल्दीवाला दूध पिएं, फायदा मिलेगा। हल्दी त्वचा संबंधी परेशानियों को दूर करने में भी मददगार है। यह शरीर की रोगप्रतिरोधी क्षमता को मजबूत बनाती है, जिससे शरीर बीमारियों से लड़ने के लिए खुद को तैयार कर लेता है(हिंदुस्तान,दिल्ली,19.1.12)।

8 टिप्‍पणियां:

  1. मसाले हम मानव जाती को मिला वरदान है ।

    हिंदी दुनिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया जानकारी मिली ..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. इन मसालों ही नहीं अनेक ऎसी जड़ी-बूटियों का पता भी आपको मेरे पास मिल जाएगा जो पुराने जमाने में मसालों के तौर पर इस्तेमाल होती थीं.

    गणतंत्र दिवस हम सभी भारतवासियों को मुबारक हो.

    इलाही वो भी दिन होगा जब अपना राज देखेंगे
    जब अपनी ही जमीं होगी और अपना आसमां होगा.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आनुभूतिक और प्रमाणिक मसाला चिकित्सा

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (२८) मैं शामिल की गई है /आप आइये और अपने सन्देश देकर हमारा उत्साह बढाइये /आप हिंदी की सेवा इसी मेहनत और लगन से करते रहें यही कामना है /आभार /

    उत्तर देंहटाएं
  6. जानकारी बहुत उपयोगी है |
    अच्छी पोस्ट |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  7. Nice .
    See
    http://hbfint.blogspot.com/2012/01/28-god-in-ved-quran.html

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।