शुक्रवार, 20 जनवरी 2012

सर्दियां और मॉइश्चराइज़र

सर्दियों में खुश्क हो चुकी त्वचा की सुरक्षा केवल नमी लौटाने से ही हो सकती है। माइश्चराइज़र यह काम बखूबी करता है। किसी ज़माने में सर्दियों में मलाई वगैरह लगाने का रिवाज़ था लेकिन आधुनिक युग में माइस्चराइजिंग क्रीम इसका बढ़िया विकल्प है। 

सर्दियों के मौसम में त्वचा इसलिए रुखी हो जाती है क्योंकि खुश्क हवा त्वचा के नीचे से नमी सोख लेती है। त्वचा में नमी की कमी होने से सेल्स की बाहरी सतह सूखी होकर चटखने लगती है। नमी का सुरक्षा कवच हटते ही अंदरूनी त्वचा पर भी मौसम का असर होने लगता है। ऐसी संवेदनशील त्वचा पर स्थायी या अस्थायी लकीरें अपना घर बनाने लगती हैं। परिणामस्वरुप चेहरा समय से पहले ही बूढ़ा दिखाई देने लगता है। मॉइश्चराइज़र त्वचा की खोई नमी तो लौटाता ही है ,साथ ही इसे और नुकसान होने से भी बचाता है। धूप, धूल और मौसम की तीखी मार से बचाते हुए मेकअप की नमी बनाए रखता है। जहाँ सूखी त्वचा के लिए मॉइश्चराइज़र मददगार साबित होता है वहीं तैलीय त्वचा के लिए ऑइल फ्री मॉइश्चराइज़र बेहतर विकल्प होते हैं।

दो तरह के मॉइश्चराइज़र 
मॉइश्चराइज़र दो तरह के होते हैं। एक जो पानी में ऑइल इमल्शन से तैयार होते हैं और दूसरे वह जिन्हें ऑइल इमल्शन में पानी से तैयार किया जाता है। अपनी त्वचा के लिए उपयुक्त मॉइश्चराइज़र का चयन कीजिए। सामान्य त्वचा के लिए वॉटर बेस वाला मॉइश्चराइज़र जिसमें थोड़ा सा तेल भी मिला हो मुफीद समझा जाता है। संवेदनशील एवं सूखी त्वचा के लिए अधिक तेल वाला मॉइश्चराइज़र उपयुक्त होता है। 

मॉइश्चराइज़र का काम ही त्वचा की नमी को बरकरार रखना है इसलिए मॉइश्चराइज़र को इसके अलावा बहुत कुछ करना चाहिए तभी उसे अच्छा कहा जा सकेगा। अच्छा मॉइश्चराइज़र वह है जो नमी बरकरार रखने के साथ साथ मृत ऊतकों के स्थान पर नए ऊतक पैदा करने में मददगार हो। इसमें ऐसे तत्व होने चाहिए जो त्वचा के पोषण के लिए विभिन्न विटामिन और खनिज की आपूर्ति भी करते रहें। कई ऐसे प्राकृतिक पदार्थ हैं जिनमें ऐसी खूबियां होती हैं। इन्हें मॉइश्चराइजिंग क्रीम और लोशन बनाने में इस्तेमाल किया जा सकता है। सबसे अच्छा मॉइश्चराइज़र वह है जो त्वचा की नमी बरकरार रखे और सूखी त्वचा की नमी को लौटाए। उपयुक्त मॉइश्चराइज़र के उपयोग से त्वचा को बहुत फ़ायदा होता है। 

सीधे किचन से... 
-आधा टेबल स्पून गुलाब जल में एक चम्मच शहद मिलाएँ और चेहरे पर आहिस्ता से मलें। इसे १५-२० मिनट के लिए छोड़ दें। फिर साफ पानी में धो लें। शहद से सूखी त्वचा की नमी लौट आएगी यह उपाय रोज़ आज़माने के लिए है। इससे कोई नुकसान नहीं होगा।

-एक चौथाई सेवफल लें। छिलका निकालकर कद्दूकस कर लें। फ्रिज में ठंडा कर लें। अब चेहरे पर लगाएँ और १५ मिनट के लिए छोड़ दें। बाद में ठंडे पानी से धो लें। 

-एक टेबल स्पून क्रीम लें। इसे चम्मच से इतना चलाएं कि नरम पेस्ट बन जाए। इसे नहाने से पहले चेहरे और गर्दन पर लगाएं। क्रीम से सनटैन साफ होता है तथा त्वचा रेशमी और चिकनी हो जाती है। 

-तीन चौथाई कप गुलाब जल,एक चौथाई कप ग्लिसरीन,एक टेबल स्पून विनेगर तथा एक चौथाई चम्मच शहद को एक शीशी में मिला लें। इस मिश्रण को हर बार हिलाकर रोज़ाना चेहरा धोने के बाद इस्तेमाल करें(डॉ. अप्रतिम गोयल,सेहत,नई दुनिया,जनवरी द्वितीयांक 2012)।

8 टिप्‍पणियां:

  1. इन सर्दी के दिनों में उपयोगी जानकारी आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. :-)
    बढ़िया...

    शुक्रिया....

    उत्तर देंहटाएं
  3. सरल और आसान उपाय के साथ बढ़िया जानकारी

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा लगा लेख पढकर ।

    नया हिंदी ब्लॉग

    http://hindidunia.wordpress.com/

    उत्तर देंहटाएं
  5. अभी तो आपके सारे सुझाव हमारे बहुत काम आएंगें ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।