बुधवार, 4 जनवरी 2012

इनफर्टिलिटी स्पेशलिस्ट के तौर पर करिअर

इनफर्टिलिटी स्पेशलिस्ट ऐसे लोगों का उपचार करते हैं, जिनकी प्रजनन क्षमता कमजोर होती है। पुरुषों में वीर्य विकार या अन्य वजहें तथा महिलाओं में बंद डिम्ब ग्रंथियां या गर्भाशय संबंधी समस्याएं इसकी वजह हो सकती हैं। उपचार में साधारण दवा से लेकर लैप्रोस्कोपी का ऑपरेशन तक शामिल है। इनफर्टिलिटी एक्सपर्ट को काफी सुलझा हुआ होना चाहिए, जो रोगी की मेडिकल और भावनात्मक समस्याओं को धैर्य से सुन सके। 

आधुनिक चिकित्सा पद्धति में विट्रो फर्टिलाइजेशन या आईवीएफ शामिल है, जो बेसिक प्रक्रिया है। इस तकनीक में शरीर के बाहर वीर्य से अंडाणु को उर्वर बना कर गर्भाधान कराया जाता है। उससे उत्पन्न भ्रूण को यूट्रस में ट्रांसफर किया जाता है। इसे आईसीएसआई (इंट्रासाइटोप्लास्मिक स्पर्म इंजेक्शन) कहते हैं। किराये की कोख यानी सेरोगेसी भी काफी लोकप्रिय हो रही है। हाल ही में आमिर खान और उनकी पत्नी किरण राव ने इसी की सहायता से संतान पैदा की। 

आमदनी 
जो डॉक्टर अपना काम कर रहे हैं तथा जिनका अपना आईवीएफ क्लीनिक है, वे हर महीने 2 लाख रुपये से ज्यादा कमा लेते हैं। किसी सरकारी अस्पताल में सुपर स्पेशलिस्ट 50,000 रुपये महीना से ज्यादा कमा लेता है तथा प्राइवेट अस्पताल में कार्यरत डॉक्टर एक लाख रुपये प्रति माह से ज्यादा अजिर्त कर लेते हैं। 

दक्षता 
आईवीएफ, अन्य प्रक्रियाओं में दक्षता, अंडाणु संग्रहण और संरक्षण तकनीक के संचालन में योग्यता। फर्टिलिटी ट्रीटमेंट से जुड़ी नई तकनीकों से खुद को अपडेट रखने की चाहत। लंबे समय तक काम करने की क्षमता। कई बार घंटों बिना ब्रेक लिए काम करना पड़ सकता है। युगलों को उपचार के संबंध में सभी बातें समझा सकने के लिए बेहतर बातचीत की क्षमता। 

कैसे करें लक्ष्य हासिल 
आपको 12वीं में साइंस विषय लेना होगा और सीबीएसई द्वारा आयोजित मेडिकल एंट्रेंस या अन्य कॉलेजों/यूनिवर्सिटी के एंट्रेंस एग्जाम देने होंगे। इसके बाद ऑब्स्टेट्रिक्स और गायनेकोलॉजी में पोस्ट ग्रेजुएट एमडी डिग्री और इनफर्टिलिटी ट्रीटमेंट में स्पेशलाइजेशन करना होगा। इस क्षेत्र में काम करने हेतु विषय के गहन ज्ञान के साथ स्पेशलाइज्ड तकनीक में ट्रेनिंग की जरूरत होती है। 

संस्थान 
यूके (ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी) यूएसए (जोन्स इंस्टीट्यूट) ऑस्ट्रेलिया (मेलबर्न यूनिवर्सिटी तथा मोनाश यूनिवर्सिटी) फायदे और नुकसान आप जीवन निर्माण करने का सुख पा सकते हैं। आप उन लोगों में आशा और प्रसन्नता का संचार कर सकते हैं, जिनके बच्चों नहीं हो रहे। कई बार किसी महिला को यह बताना कष्टप्रद हो सकता है कि आप बच्चों को जन्म नहीं दे सकतीं। अपने क्षेत्र में होने वाली नवीनतम गतिविधियों पर निरंतर नजर रखनी होगी(गीता तनेजा,हिंदुस्तान,दिल्ली,28.12.11)।

6 टिप्‍पणियां:

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।