रविवार, 25 दिसंबर 2011

शरीर ही नहीं, दिमाग को भी चाहिए खुराक

शरीर को सुंदर और स्वस्थ बनाए रखने के लिए हम न जाने कितने जतन करते हैं। लेकिन जिस दिमाग के बलबूते हम कहां से कहां पहुंच जाते हैं, उसकी तरफ इतनी बेरुखी क्यों? क्या अपने दिमाग को शार्प बनाने के लिए आप कुछ खास करती हैं? अगर जवाब न में है, तो आज से ही इन बातों पर अमल करना शुरू करें। बता रही हैं प्रीति सेठः 

यह तो हम सभी जानते हैं कि शरीर को फिट रखने के लिए अच्छी डाइट और एक्सरसाइज बेहद जरूरी है। लेकिन अपने दिमाग को फिट और तेज रखने के लिए आप क्या करती हैं? दिमाग को तेज रखने के लिए भी कुछ खास खुराक की जरूरत होती है, जिन्हें अपनी डाइट में शामिल कर आप अपने दिमाग को तेज बना सकती हैं। 

जानें ब्रेन की सही डाइट को 
ओमेगा थ्री फैटी एसिड्स को डाइट में शामिल करें। यह टूना, सॉलमन और अन्य मछलियों से मिलता है। कुछ सूखे मेवे और तेल में भी ओमेगा थ्री होता है। 

कोलाइन याददाश्त को बढ़ाने वाला महत्वपूर्ण न्यूट्रीयंट्स है। यह मछली, अंडे, सूखे मेवे और सोयाबीन में मिलता है। इससे एसिटोकोलाइन का निर्माण होता है, जो याददाश्त बढ़ाने में मददगार होता है। विटामिन बी और विटामिन सी मस्तिष्क के विकास में विशेष भूमिका निभाते हैं। विटामिन बी युक्त आहार को अपनी डाइट में शामिल करने से आपका आई क्यू बढ़ेगा। 

पाइरोग्लूटामेट एक जरूरी अमीनो एसिड है, जो याददाश्त के साथ ध्यान केंद्रित करने में भी मदद करता है। यह डेयरी प्रोडक्ट्स, मछली, फल और हरी सब्जियों में मिलता है। 

फॉस्फैटीडायसराइन नाम का केमिकल तनाव से दूर रहने में मदद करता है। ग्लूटामाइन नाम का केमिकल भी मस्तिष्क के विकास के लिए जरूरी है। यह एक तरह का अमिनो एसिड है, जिसकी मदद से मस्तिष्क सही तरीके से काम करता है। इसके अलावा यह आपके मस्तिष्क और शरीर को ऊर्जा से भी भर देगा। हेल्दी और फिट शरीर के लिए आपने आज तक कई बार यह सलाह सुनी या पढ़ी होगी कि ढेर सारा पानी पियो। पर क्या आपको पता है कि तेज दिमाग के लिए भी ढेर सारा पानी पीना जरूरी है। हर दिन कम-से-कम आठ गिलास पानी पिएं, इससे दिमाग तेज होगा। 

करें ये दिमागी कसरत 
क्रॉसवर्ड, पजल्स, इससे आप अपनी मेमोरी को तेज कर सकेंगी। सप्ताह में दो घंटे मेमोरी गेम्स और पजल्स खेलने से याददाश्त तेज होती है। नंबर पजल को आप ऑनलाइन विभिन्न वेबसाइट्स पर या अखबार या मैगजीन में हल कर सकती हैं। मेमोरी के साथ ये रीजनिंग स्किल भी बढ़ाती हैं। कुछ नया सीखें। नया सीखने की आदत और उसे जारी रखना याददाश्त को बेहतर रखने में मदद करता है, भले ही वह कोई म्यूजिकल इंस्ट्रुमेंट क्यों न हो। वोकेबलरी, हर रोज एक नया शब्द सीखकर अपनी वोकेबसरी को मजबूत करें। नए और ज्यादा शब्दों को जान उनका इस्तेमाल भी करें। स्पीड डायल, खास टेलीफोन नंबरों को याद करने की कोशिश करें। 

एक्सरसाइज करें 
एक्सरसाइज शरीर के लिए ही नहीं, दिमाग के लिए भी जरूरी है। एक्सरसाइज से दिल की धड़कन तेज होती है, जिससे खून बिना रुकावट के तेजी से शरीर में दौड़ता है। इस तरह दिमाग को ऊर्जा पहुंचाने वाला कीमती ईंधन और ऑक्सीजन दिमाग के कोने-कोने तक पहुंचाता है। सप्ताह में तीन बार एक्सरसाइज जरूर करें। यदि आप अपने दिमाग को दुरुस्त रखना चाहती हैं तो इन तीन बातों को हमेशा याद रखें। सही डाइट लें, पूरा आराम करें और नियमित व्यायाम करें। अगर आपका शरीर स्वस्थ रहेगा, तभी दिमाग भी तेज होगा(हिंदुस्तान,दिल्ली,22.12.11)।

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी पोस्ट है !

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिमाग को भी खुराक मिलना ही चाहिए. धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  3. dhyan dene yogya post.sahi kah rahe aap, dimag ko bhi to khurak milni chahiye......sunder prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल सोमवारीय चर्चामंच http://charchamanch.blogspot.com/ पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  5. दिमाग को धारदार करने के बेहतरीन उपाय...धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  6. dimaag sahi hai to jeevan hai arthat sab bekar.
    bahut laabhkari jaankari di hai aapne.aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत उपयोगी जानकारी.....
    सादर आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर जानकारी ,...अच्छी प्रस्तुती,
    क्रिसमस की बहुत२ शुभकामनाए.....

    मेरे पोस्ट के लिए--"काव्यान्जलि"--बेटी और पेड़-- मे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  9. जानकारी के लिये सादर धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहतर प्रस्तुति .जी हाँ पोषण से जुडी है दिमाग की चुस्ती फुर्ती .नींद और व्यायाम भी ज़रूरी है .दिमाद दुरुस्त तो शरीर दुरुस्त .

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।