मंगलवार, 24 मई 2011

सलाद

आधुनिक खानपान में हरियाली की हिस्सेदारी बढ़ती जा रही है। यह हरियाली यानी कि सलाद बहुत लम्बा सफर तय करके आई है। यह हमारे भोजन का पूरक भी है और अपने आपमें एक सम्पूर्ण भोजन भी है। आधुनिक काल में सलाद की अवधारणा में क्रांतिकारी बदलाव आया है और यही वजह है कि आज सलाद की हमारे भोजन में केंद्रीय भूमिका हो गई है। भारत में सलाद को शुरू से इस रूप में देखा जाता रहा है कि खीरे-ककड़ी,टमाटर,गाजर,प्याज और पत्तागोभी के टुकड़े काटकर प्लेट में सजाया जाता रहा है लेकिन आजकल लोग सलाद में विविध प्रकार की चीजें मिलाकर अनूठे प्रयोग करना पसंद करते हैं।

जागरूक रहें

रोजाना सलाद खाने के कई फायदे हैं। यह सबसे सरल व स्वास्थ्यकर आहार है और हर कोई इसे अपना सकता है। चूँकि भिन्ना-भिन्ना प्रकार के माइक्रोन्यूट्रीएंट्स विभिन्ना किस्म के भोजन में मौजूद रहते हैं, इसलिए भोजन की सही योजना बनाना आवश्यक है। सबसे उत्तम उपाय जो हम सोच सकते हैं, वह यह है कि सलाद के सेवन के साथ माइक्रोन्यूट्रीएंट युक्त पेय पदार्थों का प्रयोग। इससे न सिर्फ शरीर में जाने वाले फाइबर की मात्रा बढ़ती है, बल्कि साथ ही कॉलेस्ट्रॉल भी कम होता है और शरीर में ऊर्जा व प्रोटीन का संतुलन कायम रहता है। मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य को अक्षुण्ण रखते हुए माइक्रोन्यूट्रीएंट फोर्टिफाइड पेय का सेवन और साथ में हरी सलाद, ये सब मिल कर कमाल कर सकते हैं और आपके शरीर की पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने में अहम भूमिका निभाते हैं।

दुनिया भर में सरकारी स्वास्थ्य विभाग रोजाना ५ बार फल व सब्जियाँ खाने की सलाह दे रहे हैं। सलाद सबसे सरल तरीका है, जो इस उद्देश्य को पूरा कर सकती है। सलाद के साथ पोषक पदार्थ और कैलोरी आपके हाथ में पहुँच जाते हैं। इससे उन लोगों की भूख खुलती है, जिन्हें भूख नहीं लगती। वास्तव में सलाद आपकी छुपी हुई भूख से निपटने में मददगार साबित होता है।

फैटी एसिड का बेहतरीन स्रोत ओमेगा-३ जिसे आप अपने सलाद में शामिल कर सकते हैं। ये "लो-ग्लायसेमिक फूड्स" हैं, जो रक्त शर्करा को कम करते हैं और चर्बी को जलाने में सहयोग देते हैं। सर्वोत्तम सलाद वह है जो उच्च स्तर के पौष्टिक एवं फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थों से बनी होती है और जिसमें ओमेगा-३ प्रोटीन, मछली, बीज व नट्स भी शामिल हों। समुद्री खाद्य ओमेगा-३ के सबसे अच्छे स्रोत हैं। ये वास्तव में चर्बी जलाने वाले खाद्य हैं, जिन्हें आप अपनी सलाद में शामिल कर सकते हैं।


सलाद की सबसे बड़ी ताकतः विटामिन
रोजाना विटामिन सी के सेवन से कैंसर व हृदय रोगों का जोखिम कम हो जाता है। ये इम्यूनिटी के लिए भी महत्वपूर्ण हैं और इन्हीं की बदौलत सर्दी ज़ुकाम तथा वायरसों के अन्य हमलों की अवधि व गंभीरता में कमी आती है। ताजा फलों व सब्जियों में शक्तिशाली एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं, जैसे विटामिन ए और सी, जो हृदयरोग व कैंसर से बचाव करते हैं। सलाद के पत्ते जैसे कि लैटूयूस में कैलोरी कम होती है और इनमें ९० प्रतिशत पानी होता है; लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि इसमें कई महत्वपूर्ण विटामिन व खनिज होते हैं, जैसे कि कैल्शियम, तांबा, पोटेशियम, आयरन, विटामिन ए और सी। ये फाइबर से भरपूर होते हैं और मलोत्सर्ग को नियमित करते हैं, जिससे कॉलेस्ट्रॉल कम होता है और कब्ज से भी मुक्ति मिलती है(डॉ. प्रीतेश कौल,सेहत,नई दुनिया,मई 2011 द्वितीयांक)।। 

3 टिप्‍पणियां:

  1. सलाद खाइए और स्वस्थ रहिए...

    उत्तर देंहटाएं
  2. गर्मियों में अक्सर रात को खाने के बदले भर पेट सलाद ही चलता है , अब क्या करें , हम तो हम बच्चों को भी ये बहुत पसंद है । मैं खुद सलाद में कई प्रयोग करता हूं और हां सलाद की प्लेट तो कमाल सजाता हूं

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही अच्छी जानकारीपूर्ण पोस्ट ।

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।