मंगलवार, 10 मई 2011

योग के प्रभाव को जानने के लिए सर्वेक्षण

क्या आप योग पर भरोसा करते हैं? क्या इससे आपके स्वास्थ्य पर असर पड़ा है? ये ऐसे सवाल हैं जो जल्दी ही केंद्र सरकार के एक राष्ट्रव्यापी सर्वे में पूछे जाएंगे। इससे परोक्ष रूप से योग गुरू बाबा रामदेव की योग पद्धति के भी परीक्षण के दायरे में आने की संभावना है।

नेशनल सेंपल सर्वे आर्गनाइजेशन (एनएसएसओ) एक जुलाई से देशभर में सर्वे शुरू करेगा,जो अगले साल 30 जून तक चलेगा।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आग्रह पर एनएसएसओ यह सर्वे कर रहा है। इसकी मुख्य थीम वैकल्पिक चिकित्सा पद्धतियों की आम लोगों तक पहुंच और स्वास्थ्य पर उनके असर पर केंद्रित होगी। वैकल्पिक चिकित्सा पद्धतियों में योग के साथ आयुर्वेद,होम्योपैथ,प्राकृतिक चिकित्सा, यूनानी पद्धति भी शामिल है। बाबा रामदेव बगैर योग कैसे!: पिछले कुछ अर्से से देश में योग और बाबा रामदेव एक दूसरे के पूरक बन चुके हैं। बाबा रामदेव ने भी अध्यात्म के बजाय इसे स्वास्थ्य से जोड़ा है। ऐसे में इस सर्वे में योग और बाबा रामदेव की लोकप्रियता का भी परीक्षण हो सकेगा।

मप्र में ऐसा होगा सर्वे : एनएसएसओ के भोपाल रीजन के उपमहानिदेशक मृणाल भौमिक ने ‘दैनिक भास्कर’ को बताया कि हर रीजन में सर्वे के लिए 400-400 गांवों/ शहरी ब्लाकों का चयन किया जाएगा। मप्र में भोपाल के अलावा ग्वालियर और जबलपुर सहित तीन रीजन में यह सर्वे किया जाएगा। यानी प्रदेश में कुल 1200 गांवों में यह सर्वे होगा।

क्या पूछा जाएगा?

आप किस वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति पर भरोसा करते हैं?इसका आपके स्वास्थ्य पर कितना असर पड़ा है?क्या आपका स्वास्थ्य इससे सुधरा है?क्या कभी इसके दुष्परिणाम भी आए हैं?

क्या होंगे लाभ?
इस सर्वे से यह निकलकर सामने आएगा कि देश में एलोपैथी के अलावा कितने लोग आयुर्वेद,योग सहित अन्य वैकल्पिक चिकित्सा पद्धतियों का इस्तेमाल करते हैं। इससे सरकार को आम लोगों के स्वास्थ्य के संबंध में भावी योजनाएं बनाने में सहायता मिलेगी।

अभी एलोपैथिक चिकित्सक इन पद्धतियों को स्वीकार करने में हिचकिचाते हैं। इस सर्वे के आधार पर सरकार एलोपैथी में भी वैकल्पिक पद्धतियों के इस्तेमाल संबंधी गाइडलाइन भी बना सकती है(ए. जयजीत,दैनिक भास्कर,भोपाल,10.5.11)।

1 टिप्पणी:

  1. अगर केंद्र सरकार ऐसा कर रही है तो इसका नतीजा भी सब जानते हैं....


    दुनाली पर स्वागत है-
    कहानी हॉरर न्यूज़ चैनल्स की

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।