सोमवार, 9 मई 2011

बीमारी का इलाज़ मछलियों से

अब जल्द ही आपके डॉक्टर या डायटिशियन किसी बीमारी में दवा की तरह मछलियों के किस्म खाने की सलाह देंगे। अलग-अलग बीमारियों में मछलियों में मौजूद पोषक गुण के हिसाब से रोगियों को सलाह देंगे कि आप इस किस्म की मछली का सेवन कीजिए। इंडियन कॉसिंल ऑफ एग्रीकल्चरल रिसर्च के वैज्ञानिकों ने इसके लिए एक खांका तैयार किया है जिसके अनुसार यह बताया जाएगा कि किस बीमारी में कौन सी मछली का सेवन किया जा सकता है। आईसीआर के विभिन्न सेंटरों के वैज्ञानिकों ने इसके लिए हिमालय क्षेत्र में पाई जाने वाली कुछ मछलियों के उसके पोषक तत्व के महत्व के हिसाब से एक रूपरेखा भी तैयार की है । कोल्ड वाटर फीसरीज रिसर्च के प्रमुख पी. सी. महंत ने बताया कि विभिन्न मछलियों के उसके पोषक तत्व के महत्व के अनुसार वर्गीकृत करने से डॉक्टरों या डायटिशयनों को यह सुविधा दी जाएगी कि किस मछली का प्रयोग दवा की तरह किस बीमारी में किया जाए । उन्होंने कहा कि भारत के कई हिस्सों में खासकर सुदूर क्षेत्रों में मछली आसानी से तथा सस्ता मिलने वाला खाद्य पदार्थ है । देश के सार्वजनिक स्वास्थ्य सुरक्षा के लिहाज से मछलियों का यह वर्गीकरण नया आयाम खोल सकता है। कई अध्ययनों के आधार पर आईसीआर के वैज्ञानिकों ने हिमालय क्षेत्र में पाई जाने वाली मछलियों की पांच प्रजातियों को चिह्नित किया है। ये प्रजातियां हैं- गोल्डन महशीर, चॉकलेट महशीर, रैनबो ट्राउट, स्नो ट्राउट और कॉमन कार्प(नई दुनिया,नैनीताल,8.5.11)।

2 टिप्‍पणियां:

  1. दोस्तों क्या आप जानते हें 4 जून को डेल्ही में बाबा रामदेव इस भ्रस्ताचार के खिलाफ एक आन्दोलन करने जारहे हे अधिक जानने के लिए ये लिंक देखें
    http://www.bharatyogi.net/2011/04/4-2011.html

    उत्तर देंहटाएं
  2. आभार इस जानकारी के लिये।

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।