मंगलवार, 15 मार्च 2011

हर 100वां व्यक्ति मानसिक रोगी

सीजोफ्रेनिया रोग किशोरावस्था या युवावस्था में शुरू होता है और जीवन भर रहता है। लगभग एक प्रतिशत लोग इस बीमारी से पीड़ित हैं। परिवारीजनों, मित्रों, पड़ोसियों पर शक करना, बेवजह भयभीत रहना, अकेले में बुदबुदाना, बड़बड़ाना, हंसना, रोना या सबसे दूर भागना बीमारी के लक्षण हैं। छत्रपति शाहूजी महाराज चिकित्सा विश्वविद्यालय के मानसिक रोग विभाग के हेड प्रो.पीके दलाल का कहना है कि सीजोफ्रेनिया कई कारणों से हो सकता है। इसमें अनुवांशिक, शुरुआती जीवन और जीवनशैली रोग का कारण बन सकते हैं। हर १०० में से एक व्यक्ति मानसिक रोग से ग्रस्त है। इनमें से कम से कम पांच लाख सीजोफ्रेनिया के रोगी हैं। देश में इलाज के लिए सिर्फ २८ हजार बिस्तर ही हैं। पीजीआई चंडीगढ़ के मानसिक रोग विभाग के हेड प्रो. परमानंद कुल्हाड़ा के अनुसार, मानसिक रोगियों और उनका इलाज करने वालों के बीच  काफी अंतर है। २५० जिलों में इसे लागू कर दिया गया है। प्रत्येक जिला अस्पताल में डॉक्टरों को मानसिक रोगियों की पहचान करने व इलाज करने की सुविधा दी गई है। मेडिकल कॉलेजों में भी मानसिक रोग विभाग को संसाधन मुहैया कराए जा रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर देश के ३९ मेंटल हॉस्पिटल में व्यवस्थाएं सुधारी जा रही हैं। वर्तमान में देशभर में ३५०० मानसिक रोग विशेषज्ञ हैं। जरूरत एक लाख की आबादी पर कम से कम एक डॉक्टर की है(अमर उजाला,लखनऊ,15.3.11)।

7 टिप्‍पणियां:

  1. सीजोफ्रेनिया रोग यदि बढ़ जाए तो बहुत परेशानी होती है और ऐसे मैं रोगी के लिए घर वालों कि ज़िम्मेदारी बहुत बढ़ जाती है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कई पुरुष और महिला ब्लागरों को यह रोग है एक महिला ब्लॉगर को तो बहुत क्रानिक और असाध्य !:)

    उत्तर देंहटाएं
  3. मानसिक रोगी मतलब 'सैकड़ों में एक'
    मानसिक रोग विशेषज्ञ मतलब 'लाखों में एक'
    मानसिक ब्लॉग विशेषज्ञ मतलब '100 करोड़ में एक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. जानकारी परक लेख हेतु आपका बहुत-बहुत धन्यवाद ,

    उत्तर देंहटाएं
  5. दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है ।

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।