मंगलवार, 8 फ़रवरी 2011

सेट्राजीन समेत चार दवाएं प्रतिबंधित

सर्दी-जुकाम व एंटी एलर्जी जैसी आम बीमारी में इस्तेमाल होने वाली एजेड ब्रांड की सेट्राजीन,पेट के कीड़े को मारने वाली दवा एलबेंडाजोल, बैक्टीरियल संक्रमण को समाप्त करने वाली एंटीबायोटिक एजिथ्रोमाइसिन व एंटी डिप्रेशन की दवा अल्प्राजोलम दवा अब बाजारों में लोगों को नहीं मिल सकेगी। औषधि महानियंत्रक ने इन दवाओं को बाजारों से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। एलबेंडाजोल नामक दवा जहां हरियाणा में बनती है वहीं एजीथ्रोमाइसिन लखनऊ में बनती है।
औषधि महानियंत्रक कार्यालय को कुछ समय पहले यह सूचना दी गई थी कि कुछ दवाओं के उत्पाद समान नाम से बाजारों में बेची जा रही है। एजेड ब्रांड से बाजारों में उपलब्ध इन दवाओं से लोगों के बीच भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है। जिसके कारण औषधि महानिंत्रक डॉ.सुरेंद्र सिंह ने सभी औषधि नियंत्रकों को आदेश जारी कर कहा है कि इन दवाओं को तत्काल प्रभाव से बाजारों से बाहर कर दें। सोमवार को जारी आदेश में डॉ.सिंह ने कहा कि एजेड ब्रांड की सेट्रीजीन गुजरात के बडोडरा में बनती है। जबकि एलबेंडाजोल हरियाणा के करनाल में और एजीथ्रोमाइसिन उत्तर प्रदेश के लखनऊ में बनती है। डॉ.सिंह का कहना है कि राज्यों के औषधि नियंत्रकों से कहा गया है कि यदि बाजारों में समान ब्रांड की दवाएं बिक रही हैं तो उसे तत्काल प्रभाव से बंद कराएं(अमरउजाला,दिल्ली,8.2.11)।

3 टिप्‍पणियां:

  1. जागरूक करती पोस्ट के लिए आभार.
    आपको वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं!
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हां खबर तो पढ़ी थी...फिर भी..... इस पर पोस्ट लिखकर अच्छा किया आपने..
    वसंत पंचमी पर बधाई

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।