मंगलवार, 8 फ़रवरी 2011

सभी मिर्गी रोगियों को नहीं आते झटके

मिर्गी रोग के लिए जिम्मेदार परजीवी टीनिया सोलियम का संक्रमण बहुत लोगों को होता है, लेकिन झटके या दौरे नहीं सबको पड़ते। यह दौरे सिर्फ उन्हें पड़ते हैं जिनके शरीर में मैट्रिक्स मेटेलोप्रोटीमेज एंजाइम ज्यादा मात्रा में स्रावित होता है। इस शोध के लिए अवंतिका वर्मा को पीजीआइ में यूपीमाइक्रोकॉन के समापन अवसर पर डॉ.पीसी सेन मेमोरियल बेस्ट पेपर अवार्ड से सम्मानित किया गया। अवंतिका ने शोध के दौरान पाया कि यह एंजाइम, मस्तिष्क के चारों ओर मौजूद सुरक्षा कवच को धीरे-धीरे पूरी तरह नष्ट कर देता है। सुरक्षा कवच के न होने से टीनिया सोलियम दिमाग तक आसानी से पहुंच जाता है और मिर्गी के झटके व्यक्ति को परेशान करते हैं। इस बीमारी को न्यूरोसिस्टीसरकोसिस कहते हैं। कार्यक्रम के दौरान अपर्णा त्रिपाठी और प्रतिमा दीक्षित को प्रो.अर्चना अय्यागरी बेस्ट पेपर अवार्ड इन एंटीमाइक्रोबियल सेंसिटिविटी दिया गया। अपर्णा ने शोध के दौरान रजिस्टेंट बैक्टीरिया (ऐसे बैक्टीरिया जिन पर दवाओं का असर नहीं होता) के पता लगाने के लिए एक खास तकनीक ईजाद की है। इसका नाम है रियल टाइम पीसीआर। इसके जरिये बैक्टीरिया का पता दो से चार घंटे में लगाया जा सकेगा। वहीं प्रतिमा ने एक्सडीआर (एक्सट्रीम ड्रग रजिस्टेंट) टीबी से जूझ रहे मरीजों पर काम किया है। लापरवाही भी है कारण प्रसव के दौरान यदि एमनियोटिक फ्ल्यूड यानी बच्चेदानी में भरा द्रव नवजात शिशु के मुंह के जरिये सांस या भोजन नली में चला जाए तो उसे मेनिनजाइटिस का खतरा रहता है। इस द्रव में एंटअमीबा कोलाइ नाम के बैक्टीरिया होते हैं जो इस बीमारी के कारक हैं। पीजीआइ के माइक्रोबायोलॉजी विभाग के प्रो.केएन प्रसाद के मुताबिक यही वजह है कि प्रसव के समय खास सावधानी बरतनी चाहिए। हालांकि इस बैक्टीरिया का संक्रमण कई और तरीकों से भी होता है लिहाजा बच्चों की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। दस दिन में पता लगेगा संक्रमण यहां डॉ.विनीता खरे ने बताया कि अमूमन एचआइवी का संक्रमण होने के 30 दिन बाद ही जांच के दौरान इसकी पुष्टि होती है। हालांकि एक नई जांच के बाद विंडो पीरियड कम हो गया है यानी इसका पता संक्रमण के महज दस दिन बाद लगाया जा सकेगा(दैनिक जागरण,लखनऊ,7.2.11)।

2 टिप्‍पणियां:

  1. अगर मेरा बस चले तो आपके ब्लॉग को "बेस्ट ब्लाग" का अवार्ड दूं !आम आदमी के भले के लिए, आपकी दी हुई जानकारी, बेशकीमती हैं ! शुभकामनायें आपको

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।