शुक्रवार, 18 फ़रवरी 2011

कोक और पेप्सी से कैंसर का खतरा,तुरंत प्रतिबंध की मांग

कोल्ड ड्रिंक्स के हेल्थ पर खराब पर असर को लेकर चर्चा कोई नई बात नहीं है। अब यह बात सामने आ रही हैं कि कोका-कोला और पेप्सी में इस्तेमाल होने वाला तत्व की वजह से कैंसर तक हो सकता है। हेल्थ के क्षेत्र में काम करने वाली पावरफुल लॉबी ने इसे तुरंत बैन करने की मांग की है।

ब्रिटिश टैब्लॉइड ' डेली मेल ' के मुताबिक, रिसर्चरों का मानना है कि कोल्ड ड्रिंक्स में भूरा रंग लाने के लिए इस्तेमाल होने वाले कलरिं एजेंट की वजह से हजारों लोगों को कैंसर हो सकता है। वॉशिंगटन डीसी के सेंटर फॉर साइंस इन द पब्लिक इंटरेस्ट (सीएसपीआई) ने कहा, 'कोका-कोला, पेप्सी और बाकी चीजों में इस्तेमाल किए जाने वाले दो केमिकल कैंसर पैदा कर सकते हैं और इन्हें बैन किया जाना चाहिए।'

'कोल्ड ड्रिंक्स और बाकी चीजों में भूरा रंग लाने के लिए चीनी को अमोनिया और सल्फाइट के साथ उच्च दबाव और तापमान पर मिलाया जाता है। इस केमिकल रिऐक्शन में दो तत्व 2-एमआई और 4-एमआई बनते हैं। सरकारी स्टडी यह बात पता चली है कि ये तत्व चूहों के फेफड़े, लीवर और थायरॉइड कैंसर का कारण बने हैं।'

अमेरिका के नैशनल टॉक्सिकोलॉजी प्रोग्राम ने कहा है कि इस बात के साफ सबूत हैं कि 2-एमआई और 4-एमआई, दोनों जानवरों में कैंसर पैदा करने वाले तत्व हैं इसलिए आदमियों को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं।

सीएसपीआई के एग्जेक्युटिव डायरेक्टर माइकल जैकबसन ने अमेरिका के फूड रेग्युलेटर के पास इस बारे में कार्रवाई करने के लिए एक याचिका दाखिल की है। उनका कहना है, ' कैंसर पैदा करने वाले तत्वों को खाने में कोई जगह नहीं मिलनी चाहिए, खासतौर पर तब जब उनका इस्तेमाल केवल रंग के लिए किया जाता हो। '

अमेरिकी कानून में रंग के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले चार तरह के कैरेमल में अंतर किया गया है। इनमें से दो अमोनिया के साथ बनते हैं और दो अमोनिया के बिना। सीएसपीआई अमोनिया के साथ बनने वाले दो कैरेमल पर बैन चाहती है। सीएसपीआई की बात का पांच बड़े कैंसर एक्सपर्ट समर्थन करते हैं।

कोल्ड ड्रिंक्स में इस्तेमाल किया जाने वाला तत्व कैरेमल 4 या अमोनिया सल्फाइट से प्रोसेस कैरेमल के नाम से जाना जाता है। सल्फाइट के बिना केवल अमोनिया के साथ बनाया जाने वाला कैरेमल 3 बियर, सोया सॉस और खाने की कई चीजों में इस्तेमाल किया जाता है।

सीएसपीआई के मुताबिक जांच किए गए कोल्ड ड्रिंक्स में जितना 4एमआई पाया गया है, वह अमेरिका में हजारों लोगों में कैंसर फैला सकता है। सीएसपीआई की बात पर कोका-कोला और पेप्सी ने कुछ भी नहीं कहा है(नवभारत टाईम्स,दिल्ली,18.2.11 में वाशिंगटन से रिपोर्ट)।

6 टिप्‍पणियां:

  1. काश इस जानकारी से सारा भारत जागृत हो जाए तो हमारा भारत बहुत तरह से बच सकता है इन्ही शुभकामनाओं सहित संजय एक क्रांतिकारी आदमी

    उत्तर देंहटाएं
  2. samay rahte jaag jaane mein hi bhalai hai...
    Bahut badiya jaagruk karti post ke liye aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  3. कितना अच्छा हो यदि भारतीय पेय पदार्थों , नींबू पानी , सत्तू, छाछ , मट्ठा आदि का उपयोग शीतल पेय के रुप में ज्यादा किया जाए । जानकारी पूर्ण लेख

    उत्तर देंहटाएं
  4. उपयोगी जानकारी है । धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमें सचेत होने की आवश्यकता है...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  6. कंपनी से ban लगाने की आस छोड़कर लोगों में जागरूकता फैलाना जरूरी है

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।