शुक्रवार, 31 दिसंबर 2010

बाल झड़ते हों तो करें "माण्डुकी"

हमारी सुंदरता बढ़ाने में बालों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है लेकिन सही देखभाल के अभाव में बाल झडऩे की समस्या उत्पन्न हो जाती है। इस बीमारी से बचने के लिए कई तरह की दवाइयां और शैंपू आदि का प्रयोग किया जाता है। फिर अधिकांश लोगों की बाल झडऩे की समस्या समाप्त नहीं होती है। इस बीमारी से निजात पाने के लिए योग शास्त्र में माण्डुकी मुद्रा को सबसे श्रेष्ठ उपाय बताया गया है।

माण्डुकी मुद्रा की विधि
इस मुद्रा के लिए किसी शांत एवं स्वच्छ वातावरण वाले स्थान का चयन करें। शांति में किसी भी सुविधाजनक आसन में बैठ जाएं। अब मुंह बंद करके जीभ को तालु में घुमाना चाहिए और सहस्रार से टपकती हुई बुंदों का जीभ से पान करें। यह माण्डुकी मुद्रा है।

माण्डुकी मुद्रा के लाभ
इस मुद्रा के नियमित अभ्यास से बाल झडऩा बंद हो जाते हैं। असमयसफेद हो गए हो तो वह समस्या भी इस मुद्रा से दूर हो जाती है। इससे आपकी त्वचा चमकदार और निरोगी बनती है। इस मुद्रा के नियमित अभ्यास से वात-पित्त एवं कफ की समस्या दूर हो जाएगी(दैनिक भास्कर,उज्जैन,30.12.2010)।

5 टिप्‍पणियां:

  1. बालों का इलाज़ बहुत पसंद आया ।

    बहुत सुन्दर । आपको नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. उपयोगी जानकारी के लिए आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी जानकारी ... शुक्रिया नव वर्ष की ढेरों शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बाल उग सकेंगे या नहीं भाया बता दो..........

    उत्तर देंहटाएं
  5. यह जान कारी बहुत लाभदायक है,धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।