सोमवार, 15 नवंबर 2010

मध्यप्रदेशः14 साल में 45 गुना बढ़े एड्स रोगी

मध्य प्रदेश में एड्स रोगियों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है और पिछले 14 सालों के आंकड़ों पर नजर डालें तो प्रदेश में इनकी संख्या में 45 गुना से अधिक की बढ़ोतरी हुई है। मध्य प्रदेश राज्य एड्स नियंत्रण समिति सूत्रों के अनुसार 1996 में प्रदेश में एड्स रोगियों की संख्या मात्र 96 थी, जबकि 2009 में यह संख्या बढ़कर 4449 तक जा पहुंची है। प्रदेश में हर साल एड्स रोगियों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। मध्य प्रदेश में एड्स का पहला मामला 1988 में प्रकाश में आया था। प्रदेश में सेक्स वर्कर, समलैंगिंक जोड़ों और ट्रक चालकों के बीच जहां एड्स रोगियों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है वहीं राज्य के 25 से 35 वर्ष के युवाओं में एड्स फैलना सबसे अधिक चिंता का विषय बन गया है। आज के चकाचौंध भरे जमाने में युवा शादी पूर्व यौन संबंधों के चलते तेजी से इस बीमारी का शिकार हो रहे हैं। प्रदेश में लगभग हर साल एड्स रोगियों की संख्या में इजाफा हो रहा है तथा टीकमगढ़ और उमरिया ऐसे पिछडे़ जिले हैं जहां इस साल नए दस एड्स रोगियों का पता लगा है। उन्होंने बताया कि मध्य प्रदेश में 2008 में प्रदेश में जहां एड्स रोगियों की संख्या 3407 थी, वहीं 2009 में यह संख्या 4449 तक पहुंच गई और इस साल सितंबर तक प्रदेश में एड्स रोगियों की संख्या का आंकड़ा 3415 रिकार्ड किया गया। 2009 में सर्वाधिक 977 रोगी इंदौर में पाए गए जबकि राजधानी भोपाल का नंबर दूसरा रहा जहां एड्स रोगियों की संख्या 613 है। इसके अलावा जबलपुर में 423, उज्जैन में 294, ग्वालियर में 235, रीवा में 196, मंदसौर में 181 तथा बुरहानपुर में 151 एड्स रोगी पाए गए। इसी प्रकार इस साल सितंबर तक प्रदेश में एड्स रागियों की संख्या इंदौर में 667, भोपाल में 372, जबलपुर में 311, उज्जैन में 228, ग्वालियर में 122, रीवा में 265, मंदसौर में 142 और बुरहानपुर में 105 रिकार्ड की गई है(दैनिक जागरण,दिल्ली,15.11.2010)।

2 टिप्‍पणियां:

  1. घोर चिंता का विषय। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    विचार-परिवार

    उत्तर देंहटाएं
  2. संभल जाओ वरना बहुत देर हो जायेगी. बहुत अच्छी जानकारी दी है आपने है.

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।