सोमवार, 23 अगस्त 2010

पेसमेकर महंगा हो तो एमआरआई मुमकिन

डाक्टरों ने 73 वर्षीय वृद्ध का ऑपरेशन कर किया असंभव को संभव पेसमेकर लगवाने वाले मरीजों को अब तमाम तरह की हिदायतें नहीं झेलनी पड़ेंगी। चिकित्सा जगत में ऐसे पेसमेकर का इस्तेमाल शुरू हो गया है ,जिसके बाद एमआई आर सहित सीटी स्कैन,एक्सरे व अल्ट्रासाउंड तक कराया जा सकता है हालांकि इस सुविधा का लाभ लेने के लिए साधारण पेसमेकर की अपेक्षा तीन गुना पैसा अधिक खर्च करना होगा। नये पेसमेकर का खर्च 12.5 लाख रूपए बताया गया है ।
दिल्ली के मेदांता सिटी अस्पताल में, पहली बार, 73 वर्षीय वृद्ध में आधुनिक पेसमेकर की सर्जरी की गई। अस्पताल के कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. बलवीर सिंह ने बताया कि वृद्ध को दिल की गंभीर ब्रायक्रायडिया बीमारी थी, जिसमें एक मिनट मे 60 से भी कम बार दिल धड़कता है. हार्ट बीट कम होने के कारण वृद्ध की सर्जरी करना अधिक जटिल था। उम्र अधिक होने के कारण वृद्ध में इस तरह से पेसमेकर लगाने का निर्णय लिया गया, जिससे अन्य जरूरी जांच भी सामान्य रूप से हो सकें । चूंकि पेसमेकर से इलेक्ट्रोमैगनेटिक तरंगे निक लती हैं,इसलिए पेसमेकर के बाद मरीजों को हाई रेडिएशन की जांच जैसे एमआरआई और अल्ट्रासाउंड आदि कराने के लिए मना किया जाता है। डॉ. बलवीर सिंह ने बताया कि ये सर्जरी आधुनिक एडवाइजा एमआरआई जांच मशीन के साथ की जाती है,जिसमें ऑप्टीवाल फ्लूड तकनीक से हृदय की मॉनिटरिंग की जाती है। सर्जरी में रेडिएशन के प्रभाव की जगह डॉप्लर का प्रयोग किया जाता है। सर्जरी को एमवीपी (मैनेज्ड वेंट्रिकल पेसिंग) कहा जाता है । सर्जरी में एमआरआई सहित 2.5 लाख का खर्च आता है(हिंदुस्तान,दिल्ली,23.8.2010)।

4 टिप्‍पणियां:

  1. बढिया जानकारी .. रक्षाबंधन की बधाई और शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया उत्साहजनक जानकारी.

    रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक अच्छी जानकारी. चूंकी मेरी मां को पेसमेकर लगा हुआ है इसलिये इस जानकारी का मेरे लिये ज्यादा महत्व है.
    धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।