गुरुवार, 15 जुलाई 2010

तीन महीने में एक बार लेना होगा इन्सुलिन का इंजेक्शन

मधुमेह के ऐसे रोगी जिन्हें अपनी रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित रखने के लिए रोज इन्सुलिन के इंजेक्शन लेने की आवश्यकता होती है, उनके लिए भारतीय वैज्ञानिकों ने हारमोन की एक ऐसी किस्म खोजी है जिसके माध्यम से वे अपने रक्त शर्करा को तीन महीने तक नियंत्रित रख सकते हैं। अवधेश सुरोलिया के नेतृत्व में भारतीय राष्ट्रीय रोग प्रतिरक्षण संस्थान के वैज्ञानिकों ने इन्सुलिन इंजेक्शन का ऐसा नया तरीका विकसित किया है जिसमें सुपरमोलिक्यूलर इंसुलिन एसेम्बली-2 (एसआईए-2) मौजूद होता है। इसका इस्तेमाल मधुमेह टाईप-1 के लिए टिकाऊ उपचार के तौर पर किया जा सकता है। यह अपनी तरह का पहला अध्ययन है जिसमें पशुओं को एसआईए-2 की एक खुराक दी गई जिसके बाद उनकी रक्त शर्करा कम स्तर पर आ गई और करीब 120 दिन उसका स्तर नियंत्रित रहा। एसआईए-2 एक तरह का प्रो-ड्रग रसायन है जो शरीर के अंदर जाकर परिवर्तित हो जाता है। यह प्रो-ड्रग का एक ऐसा रूप है जिसे इन्सुलिन का आधार स्तर बनाने के लिए इंजेक्शन के जरिए दिया जाता है। यह तरीका मौजूदा उपचार प्रक्रिया के विपरीत है, जिसमें मधुमेह रोगी को ग्लूकोज स्तर को सामान्य रखने के लिए एक दिन में दो बार इंसुलिन इंजेक्शन लेने की आवश्यकता होती है । एसआईए-2 बहुत ही अनोखा है। यह शरीर में नियमित रूप से इंसुलिन छोड़ता रहता है जिससे ग्लूकोज का स्तर नहीं बढ़ पाता(हिंदुस्तान,दिल्ली,13.7.2010)।

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बहुत शुक्रिया इस जानकारी के लिए...आप बहुत अच्छा कार्य कर रहे हैं इस तरह की जानकारियां दे कर.

    आप की रचना 16 जुलाई के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
    http://charchamanch.blogspot.com
    आभार
    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  2. अभी तो इसका प्रयोग माइस में ही हो रहा है । ह्युमन ट्राइल होकर मार्केट में आने में समय लगेगा ।
    लेकिन डायबिटीज के मरीजों के लिए अच्छी खबर है ।

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।