सोमवार, 26 जुलाई 2010

एड्स नहीं रहा लाइलाज़

दुनिया भर में महामारी के रूप में प्रचारित किया जा रहा एड्स अब लाइलाज नहीं रहा। बुद्ध की धरती के एक आयुर्वेदिक डाक्टर ने इसकी दवा खोज निकाली है।
८२ हर्बल पौधों के मिश्रण से तैयार सीरप और एक कैपसूल के मार्फत १९ महीने में एड्स को जड़ से ठीक करने का दावा करने वाले इस डाक्टर की दवा को इसी साल मई में पेटेंट भी मिल गया है। इसका पेटेंट नंबर २४०४२२ है। पेटेंट मिल जाने से डाक्टर के न केवल हौसले बुलंद हैं बल्कि उनके दावे भी पुख्ता साबित हुए हैं।
कुशीनगर जिले के लक्ष्मीगंज बाजार में विश्व आयुर्वेद शोध एवं अनुसंधान केंद्र चलाने वाले डाक्टर संतोष पांडेय की यहां तक की यात्रा बेहद चुनौती भरी रही है। वह बताते हैं, "१९९९ में ही यह दवा मैंने बना ली थी। १९ जुलाई २००४ को पेटेंट के लिए आवेदन किया था। आवेदन पत्र संख्या १३३०१ बीईएल-२००४ था। पर मेरी बात कोई सुनने को ही तैयार नहीं था। हमने तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम से संपर्क साधा।
उन्होंने २३ सितंबर को इंडियन सिस्टम ऑफ मेडिसिन एंड होम्योपैथिक को तत्काल हस्तक्षेप करके दवा का परीक्षण और पेटेंट करने को कहा।" संतोष बताते हैं कि पेटेंट की प्रक्रिया में उनके लाखों रुपए स्वाहा हो गए। १२ वकीलों का भारी-भरकम पैनल लगाना पड़ा। चेन्नई में आटोमोबाइल इंजीनियर की पढ़ाई करने वाले संतोष अपनी धुन के पक्के थे। वह कुछ नया कर दिखाना चाहते थे।
नतीजतन, उन्होंने दिल्ली में नौकरी के दौरान पार्टटाइम आयुर्वेद रत्न का कोर्स किया। वह बताते हैं कि आयुर्वेद के लिए खाक छानी। ३२ लोगों को अपना गुरु बनाया। बीमार लोगों को देखकर मन पसीज उठता था। नतीजतन, आटोमोबाइल छोड़ डाक्टरी की ओर रुख किया।
पेटेंट मिलने के बाद "नईदुनिया" से बातचीत के दौरान डाक्टर संतोष के हौसले बनते हैं। वह एड्स को लेकर तमाम सरकारी दावों को खारिज करते हैं। मसलन, उनका कहना है कि कंडोम लगाकर सेक्स करने का सरकारी दावा एड्स को रोकने में सिर्फ तीस फीसदी कामयाब होता है।
उनके मुताबिक चुंबन से भी एड्स होता है। उन्होंने कहा कि भारत में तमाम लोग पान मसाला, पान, तंबाकू और सिगरेट आदि खाते-पीते हैं। नतीजतन मुंह में घाव और तमाम बीमारियां होती हैं। डीप किस के दौरान इनके मार्फत भी एड्स फैलता है।
डाक्टर संतोष भारत में एचआईवी के लिए किए जा रहे टेस्ट को भी बेमानी बताते हैं। उनके मुताबिक एड्स की जांच के लिए एलिजा, आईएफए और एसयूडीएस टेस्ट होता है। लेकिन विकसित देशों में इस परीक्षण का कोई मतलब नहीं है, क्योंकि चेचक, खसरा, हेपेटाइटिस, कुष्ठ रोग और टीबी के लिए जिम्मेदार जीवाणु इतने प्रभावित होते हैं कि इन बीमारियों के दौरान किए गए टेस्ट में भी ७० फीसदी पॉजिटिव नतीजे आते हैं।
यही नहीं, गामालो गुलीन से संक्रमित रोगी एचआईवी पॉजिटिव परिणाम देते हैं। साधारण सर्दी-जुकाम या फ्लू में भी शरीर में एंटी बाडी बनने लगती है। वैज्ञानिक वायरल लोड को भी एचआईवी का कारण मानते हैं। परंतु एचआईवी साइटोट्राक्सिक नहीं है। यानी कोषिकाओं को नष्ट नहीं करता। फिर वायरल लोड की संभावना कहां है।
बाद में जांच के लिए पीसीआर टेस्ट लाया गया जिसमें खून का ऐसा नमूना लिया जाता है जिससे डीएनए और आरएनए खोजे जा सकें। भारत में एड्स के लिए इसे पर्याप्त माना जाता है। पर नोबेल वैज्ञानिक डा.कैरी म्युलिस इसे एड्स की जांच के लिए अपर्याप्त बताते हैं।
संतोष बताते हैं कि पीसीआर केवल जीन को रेखांकित करता है। इन्होंने कई ऐसे नमूने इकट्ठा किए हैं जिसमें एचआईवी निगेटिव पाए गए स्वस्थ व्यक्तियों में भी वायरल लोड मिला है। संतोष के दावे पर भरोसा करें तो उन्होंने अब तक चार एड्स रोगियों को पूरी तरह से ठीक किया है।
जिले के बगहा खुर्द निवासी इस डाक्टर के पास इस समय एड्स के ४२ मरीज हैं। एड्स मरीजों का यह मुफ्त इलाज भी करते हैं। उन्होंने बताया कि ठीक हुए मरीजों को लेकर एआरटी सेंटर पर जांच भी कराकर दिखा चुका हूं(नई दुनिया,दिल्ली संस्करण,26.7.2010 में लखनऊ से योगेश मिश्र की रिपोर्ट)।

12 टिप्‍पणियां:

  1. संतोष बताते हैं कि पेटेंट की प्रक्रिया में उनके लाखों रुपए स्वाहा हो गए। १२ वकीलों का भारी-भरकम पैनल लगाना पड़ा। चेन्नई में आटोमोबाइल इंजीनियर की पढ़ाई करने वाले संतोष अपनी धुन के पक्के थे।
    @ ऐसे में कोई गरीब प्रतिभा तो कुछ नहीं कर सकती
    डा.संतोष की प्रतिभा व लगन को सलाम

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मैं हूँ AMANDA KARIPETRA संयुक्त राज्य अमेरिका में रहते हैं, मैं दाद से पीड़ित हो की है, कई वर्षों से, 7year की अवधि, इलाज के बिना। एक वफादार दिन मैंने देखा एक इंटरनेट पर लेख एक महिला चिकित्सक ise और यह कैसे के बारे में बात कर रहे थे चिकित्सक ने उसे एचआईवी के स्थायी रूप से ठीक हो। मैं उसे अपने ईमेल के माध्यम से संपर्क: ISESPIRITUALSPELLTEMPLE@GMAIL.COM और उसे मेरी बीमारी के बारे में बताया। इस भट्ठी आदमी मेरे दाद संक्रमण रोग ठीक हो। उन्होंने कहा कि मुझे हर्बल दवा है कि मुझे पूरी तरह से चंगा भेजा है। आज मैं `रहने वाले खुशी और दाद से मुक्त। मैं अपने दिमाग पर निष्कर्ष निकालना था कि वहां कोई है इलाज, वह मालिक है और आईएसई हर्ब अनुसंधान केन्द्र के संस्थापक है [IHRC] डॉ .ISE एचआईवी, Zika, एचपीवी, अस्थमा, मधुमेह, उपदंश, कम शुक्राणु के लिए इलाज गिनती, कैंसर, पागलपन, हेपेटाइटिस, बैक्टीरिया और परजीवी के संक्रमण और अन्य संबंधित वायरल संक्रमण। उन्होंने अभ्यास में 15 साल के खर्च के लिए किया था अध्यात्मवाद, सलाहकार, जड़ी बूटियों और आध्यात्मिक साधन का उपयोग कर इलाज करने के लिए पूरी दुनिया में बीमारी। मुख्य कारण है कि मैं इस गवाही लिख रहा हूँ अपने महान कामों के बारे में पूरी दुनिया को सूचित करने के लिए, और वह एक हर्बल डॉक्टर है जो घातक बीमारियों का इलाज कर सकते हैं। उन्होंने यह भी एक महान जादू कॉस्टर मैं नहीं था किसी भी डॉक्टर इस भट्ठी आदमी की तरह इतना शक्तिशाली देखते हैं, वह कई जीवन को बचाने के लिए किया था। तुम उसे के माध्यम से संपर्क कर सकते हैं; ISESPIRITUALSPELLTEMPLE@GMAIL.COM ...

      हटाएं
    2. मैं हूँ AMANDA KARIPETRA संयुक्त राज्य अमेरिका में रहते हैं, मैं दाद से पीड़ित हो की है, कई वर्षों से, 7year की अवधि, इलाज के बिना। एक वफादार दिन मैंने देखा एक इंटरनेट पर लेख एक महिला चिकित्सक ise और यह कैसे के बारे में बात कर रहे थे चिकित्सक ने उसे एचआईवी के स्थायी रूप से ठीक हो। मैं उसे अपने ईमेल के माध्यम से संपर्क: ISESPIRITUALSPELLTEMPLE@GMAIL.COM और उसे मेरी बीमारी के बारे में बताया। इस भट्ठी आदमी मेरे दाद संक्रमण रोग ठीक हो। उन्होंने कहा कि मुझे हर्बल दवा है कि मुझे पूरी तरह से चंगा भेजा है। आज मैं `रहने वाले खुशी और दाद से मुक्त। मैं अपने दिमाग पर निष्कर्ष निकालना था कि वहां कोई है इलाज, वह मालिक है और आईएसई हर्ब अनुसंधान केन्द्र के संस्थापक है [IHRC] डॉ .ISE एचआईवी, Zika, एचपीवी, अस्थमा, मधुमेह, उपदंश, कम शुक्राणु के लिए इलाज गिनती, कैंसर, पागलपन, हेपेटाइटिस, बैक्टीरिया और परजीवी के संक्रमण और अन्य संबंधित वायरल संक्रमण। उन्होंने अभ्यास में 15 साल के खर्च के लिए किया था अध्यात्मवाद, सलाहकार, जड़ी बूटियों और आध्यात्मिक साधन का उपयोग कर इलाज करने के लिए पूरी दुनिया में बीमारी। मुख्य कारण है कि मैं इस गवाही लिख रहा हूँ अपने महान कामों के बारे में पूरी दुनिया को सूचित करने के लिए, और वह एक हर्बल डॉक्टर है जो घातक बीमारियों का इलाज कर सकते हैं। उन्होंने यह भी एक महान जादू कॉस्टर मैं नहीं था किसी भी डॉक्टर इस भट्ठी आदमी की तरह इतना शक्तिशाली देखते हैं, वह कई जीवन को बचाने के लिए किया था। तुम उसे के माध्यम से संपर्क कर सकते हैं; ISESPIRITUALSPELLTEMPLE@GMAIL.COM ...

      हटाएं
  2. इनका अता पता क्या है कुमार। क्या मेल कर सकते हो।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. kya inka ata pta chal ho to mujh ko bhee mail karna yashbisht@rediffmail.com

      हटाएं
  3. इनका अता पता क्या है कुमार। क्या मेल कर सकते हो

    उत्तर देंहटाएं
  4. इनका अता पता क्या है कुमार। क्या मेल कर सकते हो
    aattuullss@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. इनका अता पता क्या है कुमार। क्या मेल कर सकते हो

    उत्तर देंहटाएं
  6. अरे भाई ,अगर किसी के पास इनका ईमेल या फोन न. हो तो भाई जरुर दे vimku639@gmail.com पर

    उत्तर देंहटाएं
  7. नमस्ते हर कोई .... मैं मैं के बारे में कैसे प्रसारित करने के लिए शर्म नहीं हो सकता, मैं डॉ ओला वह मैं उसे करने के लिए निर्देशित किया है कि एचआईवी से पीड़ित कई लोगों की मदद की है कि कैसे मेरी मदद की और कैसे पर गवाही देने के लिए फिर से आया था यही वजह है कि बहुत खुश हूँ मैं स्वस्थ और स्वतंत्र हूँ, क्योंकि मैं अब एचआईवी रोग का सामना करना पड़ा मैं 3 साल के लिए सकारात्मक था, लेकिन अब मैं डॉ ओला हर्बल चिकित्सा की मदद से नकारात्मक एचआईवी हूँ। मेरे प्यारे दोस्तों, मैं डॉ ओला मुझे ठीक हो और फिर से मेरे परिवार को खुश कर दिया कहने के लिए खुश हूँ। उन्होंने कहा कि मैं आप किसी भी समस्या है, तो आप उससे संपर्क करने के लिए सलाह, किसी भी बीमारी या बीमारी का इलाज कर सकते हैं, आप ईमेल के माध्यम से उसे आज से संपर्क कर सकते हैं: dr.olaherbalhome@gmail.com या / WhatsApp +2348055329124 कहते हैं। मैं यह भी कहा कि वह हरपीज इलाज कर सकते हैं समझते हैं कि, लासा बुखार, सूजाक, एचआईवी / एड्स, शुक्राणुओं की संख्या कम, रजोनिवृत्ति रोग, मिर्गी, अपूतिता, कैंसर, चिंता अवसाद, गर्भपात, गर्भावस्था समस्या है और यह भी कि वह हमलों के टूटे घरों, हर्बल उपचार बहाल मदद करता है यह आध्यात्मिक या शारीरिक हो सकता है, और यह भी आप हर किसी के साथ अनुग्रह बना सकते हैं मैं तुम्हें मैं ईमेल के माध्यम से डॉ ओला से परामर्श के बाद अब हूँ बस के रूप में खुश हो जाएगा कि आपको विश्वास दिलाता हूं: (dr.olaherbalhome@gmail.com) / WhatsApp 2348055329124। तुम भी मेरे ईमेल के साथ और अधिक जानकारी के लिए मुझसे संपर्क कर सकते हैं: irinagubasova101@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।