गुरुवार, 17 जून 2010

छत्तीसगढ़ में कैंसर के इलाज की हाईटेक मशीन

रायपुर के आंबेडकर अस्पताल में 19 जून से लीनियर एक्सीलरेटर मशीन चालू होने के साथ ही कैंसर के इलाज की विश्व स्तरीय सुविधा उपलब्ध हो जाएगी। देश के किसी भी मेडिकल कालेज अस्पताल में कैंसर के उपचार की इतनी हाईटेक मशीन नहीं है। गरीबी रेखा से नीचे आने वालों का इन मशीनों से बिलकुल मुफ्त इलाज होगा। देश के महानगरों में लीनियर एक्सीलरेटर से कैंसर मरीजों की सिंकाई का कोर्स करने की फीस एक लाख से डेढ़ लाख तक ली जाती है। चैरिटी वाले अस्पतालों में भी 50-60 हजार रुपए फीस तय है। ऐसे संकेत हैं कि अन्य अस्पतालों की तुलना में 10 प्रतिशत शुल्क ही लिया जाएगा। इसके लिए स्वास्थ्य मंत्री अमर अग्रवाल से हरी झंडी का इंतजार है। अस्पताल की कैंसर यूनिट में लीनियर के साथ सीटी सिम्यूलेटर मशीन भी लगायी गई है। तीन करोड़ की लागत वाली यह मशीन लीनियर एक्सीलरेटर से मरीज की सिंकाई करने में अहम भूमिका निभाती है। आंबेडकर अस्पताल के अधीक्षक और रेडियोथेरैपी विभाग के एचओडी डा. विवेक चौधरी ने बताया कि सीटी सिम्यूलेटर मशीन से यह पता लगाया जाता है कि शरीर के कितने हिस्से में सिंकाई की जरुरत है। लीनियर एक्सीलरेटर से कैंसर के टच्यूमर की पांच मर्तबा सिंकाई करने के बाद यह जांचा जाता है कि इतनी सीटिंग की सिंकाई से टच्यूमर पर कितना असर हुआ है। अब उस टच्यूमर के कितने हिस्से में सिंकाई की जरुरत है। इसी जांच रिपोर्ट के आधार पर आगे सिंकाई की जाती है। इसलिए यह मशीन बेहद जरुरी थी(dAINIK bHASKAR,17.6.2010)।

2 टिप्‍पणियां:

  1. आप की इस रचना को शुक्रवार के चर्चा मंच पर सजाया गया है.
    http://charchamanch.blogspot.com

    आभार

    अनामिका

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्या सही किसी मेडिकल कॉलेज में यह मशीन नहीं है ?

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।