मंगलवार, 4 मई 2010

ग्रामीण स्वास्थ्य का लक्ष्य एलोपैथी के भरोसे संभव नहीं-यूनानी चिकित्सक संघ

यूनानी चिकित्सा पद्धति के विशेषज्ञों ने केंद्र सरकार से राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन कार्यक्रम में यूनानी पद्धति का विशेष उपयोग करने की सिफारिश की है। उनका कहना है कि सिर्फ एलोपैथी दवाओं के भरोसे इस कार्यक्रम को सफल नहीं बनाया जा सकेगा । 30 अप्रैल को, नई दिल्ली के इंडियन इस्लामिक सेंटर में आयोजित इस राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री गांधी सेल्वन ने विशेषज्ञों से अपील की कि वे असरदार दवाओं को इजाद करने के प्रयास तेज़ करें । उन्होंने औषधीय पौधों के संरक्षण पर भी बल दिया । केंद्रीय यूनानी चिकित्सा अनुसंधान परिषद के महानिदेशक डॉ. मोहम्मद खालिद सिद्दीकी ने परिषद द्वारा औषधि मानकीकरण, औषधि पादप सर्वेक्षण आदि कार्यों की चर्चा की। विशेषज्ञों ने राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन में यूनानी दवाओं का प्रयोग बढ़ाने, राष्ट्रीय यूनानी संस्थान बनाने और यूनानी पद्धति अकादमी की स्थापना आदि की मांग की ।

1 टिप्पणी:

  1. अन्य पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों को भी बढ़ावा दिया जाना चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।