बुधवार, 21 अप्रैल 2010

साढे तीन साल के एमबीबीएस "डाक्टर" नहीं "स्वास्थ्य कार्यकर्ता" होंगे

एमबीबीएस डाक्टर ग्रामीण इलाकों में जाने को तैयार नहीं होते। अलबत्ता,सरकार ने गांवों में सेवा देने की शर्त पर साढे तीन साल में एमबीबीएस की डिग्री देने की पहल की थी। प्रस्ताव के सार्वजनिक होने के बाद से ही एमबीबीएस डाक्टरों के संगठन इसका लगातार विरोध करते रहे। ऐसा लगता है कि अब उऩकी खिलाफत रंग दिखाने लगी है। देखिए,आज के हिंदुस्तान की रिपोर्टः

3 टिप्‍पणियां:

  1. अंकल आपने बहुत अच्छी जानकारी दी ,इसके लिए धन्यवाद / पता नहीं कोई भी अच्छा प्रयास इस देश में टायं -टायं फ़ीस क्यों हो जाता है /

    उत्तर देंहटाएं
  2. यानि फिर वही ढाक के तीन पात।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इतना अच्छा प्रयास...और क्या कर दिया ये.

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।