रविवार, 15 अप्रैल 2012

प्लेस्टेशन के वर्चुअल वर्ल्ड में बिखरता बचपन

प्लेस्टेशन और कम्प्यूटर के वर्चुअल वर्ल्ड में चल रहे खेल उत्तेजना से भरे हैं, बच्चे घंटों उनके सामने से हटना नहीं चाहते। गैजेट्स की दुनिया इतनी तेज़ी से बदल रही है कि उनके साथ कदम ताल करना आर्थिक रूप से सक्षम पालकों के लिए भी कठिन होता जा रहा है। कम्प्यूटर केंद्रित इस आभासीय दुनिया ने बच्चों को बाहरी दुनिया से काटकर रख दिया है। हर दिन बदलते जा रहे खिलौनों ने बच्चों को घर के अंदर समेट कर रख दिया है। आज के बच्चे एक ऐसी काल्पनिक दुनिया में बस चुके हैं जहाँ से वास्तविक दुनिया धुंधली नज़र आती है। बच्चे अब घर के बाहर खेलने नहीं जाते। माता-पिता की यही ख्वाहिश है कि उनका बच्चा हर क्षेत्र में जीनियस हो सिवाए खेलकूद के। आज के बच्चे माता पिता की इसी नाज़ायज़ ख्वाहिश की भेंट चढ़ रहे हैं। वे बचपन की कच्ची उम्र में शरीर से मोटे और स्वभाव से आक्रामक होते जा रहे हैं। 

आज समाजशास्त्रियों की चिंताएं लगतार बढ़ रही हैं क्योंकि आधुनिक बच्चे तेजी से समाज से दूर होते जा रहे हैं। यदि उन्हें फुटबॉल या क्रिकेट और प्लेस्टेशन से कोई गेम खेलने का विकल्प दिया जाए तो वे प्लेस्टेशन पर बैठना अधिक पसंद करेंगे। आधुनिक टैक्नोलॉजी का सामिप्य बच्चों को मोटा बना रहा है। चाहे टेलिविजन की चैनल सर्फिंग हो या नेटसर्फिंग दोनों बच्चों को घंटों तक शारीरिक रूप से बांधे रखते हैं। प्लेस्टेशन पर अधिकांश गेम्स युद्ध जैसे आक्रामक माहौल की सृष्टि करते हैं। जीतने के तनाव से ग्रस्त बच्चा बहुत देर तक उसी मानसिक अवस्था में रहता है। जंक फूड बहुत सम्मानित और "कूल" समझा जाने लगा है। बच्चे आउटडोर गेम्स से दूर होने के साथ ही चिढ़-चिड़े होते जा रहे हैं। शारीरिक मशक्कत कम होने के साथ ही उनकी रोग प्रतिरोधक शक्ति भी क्षीण होती जा रही है। किसी भी बच्चे के स्वस्थ जीवन की मजबूत नींव रखने की जिम्मेदारी पालकों की होती है। वे आजीविका के तनाव को घर से बाहर रखें और बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम बिताएं। बच्चों को वर्चुअल वर्ल्ड से दूर खींच कर ले जाने से बच्चों के साथ समाज का भी भला होगा। शारीरिक रूप से स्वस्थ समाज ही विकास की राह पर अग्रसर हो सकता है(संपादकीय,सेहत,नई दुनिया,अप्रैल द्वितीयांक 2012)।

12 टिप्‍पणियां:

  1. इस आभासीय दुनिया ने बच्चों को बाहरी
    दुनिया से काटकर रख दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खतरनाक सा ट्रेंड चल पड़ा है.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बच्चे आउटडोर गेम्स से दूर होने के साथ ही चिढ़-चिड़े होते जा रहे हैं।...............
    समस्या घर-घर में देखी जा सकती है...........

    उत्तर देंहटाएं
  4. बच्चों को वर्चुअल वर्ल्ड से दूर खींच कर ले जाने से बच्चों के साथ समाज का भी भला होगा।
    सत्य से रूबरू कराती महत्त्वपूर्ण प्रस्तुति...
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर वाह!
    आपकी यह ख़ूबसूरत प्रविष्टि कल दिनांक 16-04-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-851 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  6. बच्चे वास्तविकतासे दूर कल्पना की दुनिया में रमते जा रहे है !
    माता पिता की व्यस्तता बहुत सारे कारण है, बच्चे खेल कसरत से प्रकृति से दूर होते जा रहे है !
    यह एक गंभीर समस्या है ! बेहतरीन पोस्ट के लिये आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्लेस्टेशन का क्या मतलब ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. NIce post

    http://hbfint.blogspot.com/2012/04/39-nirmal-baba-ki-tisri-aankh.html

    उत्तर देंहटाएं
  9. Nice post.

    http://hbfint.blogspot.com/2012/04/39-nirmal-baba-ki-tisri-aankh.html

    उत्तर देंहटाएं
  10. सही कह रहे हैं आप आपकी बातों से सहमत हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. Chitan ka vishya to hai lekin aajkar ke bachhe sunte bhi kahan hai.... computer par koi kaam karna ho to mushkil kar dete hai...khud jab baith gaye to uthne ka naam nahi, jab tak achhi daant ya maar na pad jaay...
    prerak prastuti ke liye aabhar!

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।