मंगलवार, 3 अप्रैल 2012

गर्मियों में बालों का रख-रखाव

गर्मियों में बाल बेजान हो जाते हैं, रूसी और बाल झड़ने की परेशानी भी बढ़ जाती है। दरअसल गर्मी में तेज धूप से बहुत पसीना बनता है और त्वचा की नमी बढ़ जाती है। त्वचा के छिद्र अधिक खुल जाते हैं, जिनसे पसीना निकलता है, लेकिन इससे त्वचा की जड़ कमज़ोर पड़ जाती है। चूँकि सिर की ऊपरी त्वचा पर नमी रहती है, इसलिए बालों के गिरने का खतरा बढ़ जाता है। नमी के कारण खुजली होती है। बार-बार खुजलाने से समस्या बिगड़ती जाती है और बाल गिरने लगते हैं। 

बेशक बाल गिरने की समस्या गर्मियों में बढ़ती है, पर यह पूरे साल सताने वाली एक आम समस्या है। बालों की समस्या के कई कारण हैं। हालाँकि मुख्यतः दो कारण देखे जाते हैं- आनुवांशिक और खान-पान की समस्या। बाल बढ़ने में भी इन कारणों की खास अहमियत है। बाल गिरने के कुछ अन्य कारण भी हैं, जैसे खाने में अधिक मीठा लेना, हानिकारक रसायन युक्त शैम्पू और कंडिशनर का उपयोग, चिंता, तनाव आदि।

कंघी करते हुए दो-चार बाल हाथ आ जाएँ तो घबराने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि यह एक सामान्य प्रक्रिया है। हर दिन ४५ से ६० बालों का गिरना स्वाभाविक है। इनकी जगह नए बाल उग आते हैं, लेकिन हर दिन औसत ६० से अधिक बाल गिरने लगे तो चिकित्सक से परामर्श लेना आवश्यक हो जाता है। 

सबसे पहले तो आप बालों को नियमित रूप से धोएँ। बारिश के दिनों में तो बार-बार धोना चाहिए, क्योंकि विलंब करने से सिर की त्वचा तैलीय रह जाती है, बहुत अधिक बाल गिरने लगते हैं, रूसी की समस्या घेर लेती है और बाल रुखे हो जाते हैं। एक अन्य महत्वपूर्ण बात है शैम्पू का चयन, माइल्ड शैंपू का उपयोग करें। बेबी शैम्पू का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। यों तो बाल गिरना बुढ़ापे की निशानी है, पर आज युवाओं में भी यह आम समस्या है। कम उम्र में बाल गिरने से कभी-कभी निराशा घेर लेती है। कई लोग बाल गिरने के बाद खुद को यार-दोस्तों के बीच जाने के काबिल नहीं मानते हैं। इससे उनमें इतनी हीन भावना आ जाती है कि वे स्वाभिमान खो बैठते हैं और खुद को कम आँकने लगते हैं। 

बाल गिरने की समस्या के कई स्वरूप हैं। सबसे आम है "एंड्रोजेनिक एलोपेसिया" या मेल पैटर्न बाल्डनेस (पुरुषों में) या फीमेल पैटर्न बाल्डनेस (महिलाओं में)। आम तौर पर यह आनुवांशिक समस्या है। अन्य किस्म की समस्याएँ अस्थायी होती हैं, पर ये त्वचा के संक्रमण, तनाव और अत्यधिक दवाएँ लेने जैसी गंभीर समस्याओं का दुष्प्रभाव हो सकता है। बालों की अहमियत समझना हो तो किसी हेयर ट्रांसप्लांट क्लिनिक के बाहर लोगों की बढ़ती कतार देख लें, जिनके बाल उड़ते जा रहे हैं। 

उपचार पर इन्हें पानी की तरह पैसा बहाते देख बालों की अहमियत आसानी से समझ जाएँगे। यह जानना महत्वपूर्ण है कि बाल स्वाभाविक रूप से गिर रहे हैं या फिर किसी गंभीर समस्या के कारण। लेकिन यह कैसे जाना जाए? इस सवाल पर लोग अक्सर अटक जाते हैं क्योंकि वे यक़ीन से नहीं कह सकते कि उनकी स्थिति गंभीर है या फिर समस्या अस्थायी है और समय के साथ जाएगी। इसका हल जानने के लिए बालों की विकास प्रक्रिया को समझना ज़रूरी है। 

मौसम बदलने के कुछ दुष्प्रभाव होते हैं। चाहे वह बारिश,गर्मी या फिर जाड़े का मौसम हो। इस दौरान त्वचा और बालों की ख़ास देखभाल ज़रूरी होती है। सिर का एक -एक बाल विकास की प्रक्रिया से गुज़रता है जिसे एनाजेन कहते हैं। यह करीब 1000 दिनों की प्रक्रिया है। इसके बाद 10 दिनों का ट्रांजिशनल फेज़ कैटाजेन है। इस फेज़ में बालों का बढ़ना रूक जाता है और उसके बाद अंतिम फेज़ टेलोजेन है जो अगले 100 दिनों का होता है। इसके बाद बाल अंततः फोलिकल से गिर जाते हैं और नए बाल आ जाते हैं। इसके साथ नया चक्र शुरु हो जाता है। कई लोगों को यह पता ही नहीं चलता कि उनके बाल गिरते भी हैं,पर यह सिर्फ ग़लतफ़हमी होती है क्योंकि बालों की विकास प्रक्रिया में ये उगने के साथ ही नियमित रूप से गिरते भी हैं। 

बाल गिरने से परेशान लोगों की गर्मियों में नींद हराम हो जाती है। ख़ासकर इस मौसम में यह समस्या बद से बदतर हो जाती है। इसका एकमात्र कारण है-पसीने और बालों की नमी जो कि तापमान बढ़ने से पैदा होती है। इससे बालों की जड़ें ही कमज़ोर पड़ जाती हैं(डॉ. अरविंद पोसवाल,सेहत,नई दुनिया,मार्च चतुर्थांक 2012)।

12 टिप्‍पणियां:

  1. शुक्रिया राधारमण जी..............

    जुल्फें ना हों तो आधे कवियों की तो प्रेरणा ही मर जायेगी....
    :-)

    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Nice .

    http://hbfint.blogspot.com/2012/04/37-truth-only.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक और अच्छी प्रस्तुति |
    समुचित ध्यान दिलाती पोस्ट |

    उत्तर देंहटाएं
  4. उपयोगी पोस्ट ... ध्यान देने वाली पर नज़र रक्खी है आपने ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. बालों के गिरने की प्रक्रिया पर विस्तार से रौशनी डालता आलेख है यह .जानकारी से लबालब .

    उत्तर देंहटाएं
  6. उपयोगी जानकारी ...

    कल 04/04/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    ... अच्छे लोग मेरा पीछा करते हैं .... ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. उपयोगी लगी जानकारी ...
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपको पढ़ना हमेशा लाभदायक होता है१

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।