मंगलवार, 13 मार्च 2012

मूत्र मार्ग संक्रमण

मूत्र मार्ग संक्रमण जीवाणु जन्य संक्रमण है जिसमें मूत्र मार्ग का कोई भी भाग प्रभावित हो सकता है। हालाँकि मूत्र में तरह-तरह के द्रव एवं वर्ज्य पदार्थ होते है किंतु इसमें जीवाणु नहीं होते। यूटीआई से ग्रसित होने पर मूत्र में जीवाणु भी मौजूद होते हैं। जब मूत्राशय या गुर्दे में जीवाणु प्रवेश कर जाते हैं और बढ़ने लगते हैं तो यह स्थिति आती है। 

मूत्र-मार्ग ६ प्रमुख अंगों - दो गुर्दें, दो मूत्रवाहिनियों, मूत्राशय और यूरेथ्रा से मिलकर बना होता है। गुर्दे रक्त को साफ करके उसमें मौजूद अनुपयोगी या विषैले तत्वों को हटाकर मूत्र के ज़रिए शरीर से बाहर निकालने का काम करता है। सबसे पहले गुर्दा रक्त की सफाई करता है और सफाई के बाद जो गंदा तरल पदार्थ निकलता है वह मूत्रवाहिनी के रास्ते मूत्राशय में जमा हो जाता है। जब मूत्राशय पूरी तरह भर जाता है तब यूरेथ्रा पर दबाव पड़ता है, इसी वजह से मूत्र त्याग करने की ज़रूरत महसूस होती है। मूत्र के सामान्य प्रवाह में किसी भी प्रकार की रुकावट संक्रमण के लिए ज़िम्मेदार होती है जैसे गुर्दे की पथरी, बढ़ी हुई प्रोस्टेट या मूत्र मार्ग में किसी भी प्रकार का संरचनात्मक विकार। पुरुषों के मुकाबले महिलाओं में संक्रमण का खतरा ज़्यादा होता है क्योंकि उनका मूत्रमार्ग छोटा होता है और योनि के पास होने से जीवाणु आसानी से मूत्रमार्ग में प्रवेश कर जाते है। गर्भावस्था में भी मूत्रमार्ग के संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है जिसका सीधा असर बच्चे पर पड़ता है। इस कारण से बच्चा समय से पहले और कम वज़न का हो सकता है। 

प्रमुख लक्षण
-मूत्रमार्ग में जलन। गुप्तांग में खुजली।
-बार-बार पेशाब त्यागना।
-पेशाब करते वक्त दर्द होना।
-मूत्र में से दुर्गंध आना।
-कभी-कभी मूत्र के साथ रक्त का आना। -कंपकपी के साथ बुखार आना। -भूख न लगना। -कमज़ोरी और थकान महसूस होना। -बच्चे का कद और वजन न बढ़ना।

निदान 
इस संक्रमण का पता करने के लिए कई प्रकार के परीक्षण हैं, इनमें सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण है मूत्र का विश्लेषण करना। जाँच के लिए मूत्र का नमूना भेजा जाता है। उसमें अगर बैक्टीरिया और श्वेत रक्त कोशिकाओं की मौजूदगी से मरीज़ के संक्रमण से ग्रसित होने का पता लगता है। इसके अलावा भी कई जाँचें कराई जा सकती हैं जैसे टोटल ब्लड काउंट, इंट्रावीनस पायलोग्राम (आईवीपी), सीटी स्कैन और ब्लड कल्चर।

उपचार 
मूत्र मार्ग संक्रमण का उपचार इस बात पर निर्भर करता है कि संक्रमण कौन से रोगजनक कीटाणु पैदा कर रहे है और वो कौन-सी दवाइयों के लिए संवेदनशील है। इलाज के लिए मुख्य रुप से एंटीबायोटिक दवाएँ दी जाती हैं।  

बचाव  
- संक्रमण से बचने के लिए शरीर की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। टॉयलेट हमेशा साफ-सुथरा रखें।

-खानपान की स्वच्छता का ध्यान रखना भी ज़रुरी है। गंदी जगह पर बनाया गया खाना खाने से भी यह परेशानी हो सकती है। खाने का संक्रमण खून में मिल जाता है इसलिए उससे भी मूत्र मार्ग में संक्रमण हो सकता है।

-पानी और तरल पदार्थों का सेवन अधिक मात्रा में करना चाहिए।

-हमेशा सूती कपड़े के इनरवेयर ही पहनने चाहिए। 

-सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि जैसे ही संक्रमण का कोई भी लक्षण महसूस होने पर तुरंत डॉक्टरी सलाह लें। देर करने से ये संक्रमण बढ़कर ऊपर गुर्दों तक पहुँच कर उन्हें क्षतिग्रस्त कर सकता है(डॉ. सुमित्रा यादव,,सेहत,नई दुनिया,मार्च प्रथमांक 2012)।

13 टिप्‍पणियां:

  1. मूत्र
    त्याग पर
    सटीक सूत्र ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. महत्वपूर्ण जानकारी पढ़ने को मिली ।
    उपयोगी जानकारी पढ़ने को मिली

    उत्तर देंहटाएं
  3. सजी मँच पे चरफरी, चटक स्वाद की चाट |
    चटकारे ले लो तनिक, रविकर जोहे बाट ||

    बुधवारीय चर्चा-मँच
    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. मूत्र मार्ग संक्रमण की रोकथाम

    निम्न में से कोई उपाय है कि अध्ययन मूत्र मार्ग में संक्रमण की घटना को कम कर सकते हैं सुझाव है कि कर रहे हैं। इन लोगों को, खासकर महिलाओं, आवर्ती में संक्रमण के साथ के लिए उपयुक्त हो सकता है:

    * जब यह आवश्यक है पेशाब नहीं देरी मत करो।
    * मनी meatus (मूत्रमार्ग का उद्घाटन) सफाई के बाद संभोग के कुछ लाभ हो दिखाया गया है; तथापि, यह है कि क्या यह एक एंटीसेप्टिक या एक placebo मरहम (एक मरहम कोई सक्रिय संघटक युक्त) के साथ किया जाता है बात करने के लिए प्रकट नहीं होता है।
    * यह वकालत की गई है कि क्रैनबेरी रस यूटीआई (इन विचारों में से कुछ बाहरी लिंक्स अनुभाग में संदर्भित कर रहे हैं) की घटना को कम कर सकते हैं। Tannin, A प्रकार Proanthocyanidin, cranberries और ब्लूबेरी में ही पाया बुलाया के किसी विशिष्ट प्रकार निश्चित रोगजनकों का पालन है, (उदा. रोकता है ' ई. कोलाई ') मूत्र मूत्राशय का epithelium करने के लिए। यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षण के Cochrane सहयोग से एक की समीक्षा राज्यों "कुछ सबूत cranberries (रस और कैप्सूल) आवर्ती में संक्रमण महिलाओं में रोक सकते हैं दिखाने के लिए परीक्षण से। कई लोगों को परीक्षण में रस पीने सुझाव दे यह एक लोकप्रिय हस्तक्षेप नहीं हो सकता रोका"। काउंटर पर उत्पाद कि एक मजबूत खुराक के एक प्रकार Proanthocyanidin के उद्धार के विकास में हैं। महिलाओं में मनाया यहां तक कि कम से कम prophylactic प्रभाव में, क्रैनबेरी गोलियां और रस की कुल लागत 2000 $ प्रति वर्ष से अधिक। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि वहाँ प्रतिभागियों इस लागत को व्यक्तिगत रूप से सहन करने के लिए आवश्यक थे तो एक मानक यादृच्छिक डबल नेत्रहीन अध्ययन में अनुपालन की स्थापना में काफी कठिनाई होगी।
    * कर रहे हैं कम मात्रा एंटीबायोटिक दवाओं के अक्सर लंबे पाठ्यक्रम लिया पर रात को रोकने में मदद करने के लिए अन्यथा अस्पष्टीकृत पुनरावर्ती cystitis के मामलों।
    * एक्यूपंक्चर बारम्बार मामलों में नए संक्रमण को रोकने में प्रभावी होना दिखाया गया है। एक अध्ययन से पता चला कि मूत्र पथ संक्रमण पुनरावृत्ति छह महीने के लिए 50% से कम हो गया था। बहरहाल, इस अध्ययन के कई कारणों के लिए आलोचना की गई है। अध्ययन के सभी स्वतंत्र प्रजनन परिणामों के बिना एक अनुसंधान टीम द्वारा किया जाता है।
    * अध्ययनों से पता चला है कि स्तनपान शिशुओं में UTIs के जोखिम को कम कर सकते हैं।
    * Foley कैथेटर रखने के साथ biofilm clogging से मूत्राशय, जो बैक्टीरिया विकास के लिए एक संस्कृति माध्यम के रूप में कार्य करता है में मूत्र की तंद्रा पाएगा।
    see
    http://tibbe-nabvi.blogspot.com/2012/03/uti.html

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़िया प्रस्तुति .केथीतर भी बनता है यूरिनरी इन्फेक्शन की एक आम वजह .बेहद अच्छी और बढ़िया तरीके से संयोजित जानकारी .

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस विषय में महत्वपूर्ण जानकारी यहाँ पढ़वाने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. meri maa ki age 45 hai. Use ek sal se white(milky colour) urine hone ki problem hai. Normally e morning k first time hota hai. Din k time rarely hota hai. BHU, PGI dono hospitals me dikha liya gya hai. Halat me koi improvement ni hai. BHU me us ko koi liquid medicine pipe k through urine system me dala ja chuka hai. Improvement na hone par doctor dubara k liye keh rhe. Dava chadhate time bhut pain hota hai, condition bhut khrab ho jata hai. PGI jane pe v yhi solution btaya gya. So BHU se hi treatment continue hai. Next week doctor ne bulaya hai. Ap plz meri help kre. What to do?

    My mail add: deepakseth63@gmail.com
    Mobile: 7275663928

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरे दाँये गुर्दे मे पथरी है,पैशाब की जाँच करायी तो उसमे रक्त आता है,हर समय बुखार सा बना रहता है,अत्यधिक ठंड लगती है,DOCTOR ने ANTIBIOTICE दवाईयाँ दे रखी है,थर्मामीटर मे बुखार नही आता लेकिन हर समय बुखार बना रहता है,बार बार पैशाब करना पडता है,कल्चर टैस्ट भी NORMAL है,मै बहुत परेशान हूँ,please मुझे सुझाव दे,
    MY EMAIL ID: panwarsurendar@rocketmail.com

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।