शुक्रवार, 23 दिसंबर 2011

बाल प्रत्यारोपणः न करें समझौता

सस्ते में हेयर ट्रांसप्लांट का विज्ञापन देखकर अगर बाल प्रत्यारोपण कराने जा रहे हैं तो हो जाइए सावधान। सस्ते के चक्कर में फंसने से पहले समझ लें कि बाल प्रत्यारोपण एक बड़ा कदम है। इंटरनेशनल सोसायटी ऑफ हेयर रेस्टोरेशन के सदस्य व जानेमाने बाल प्रत्यारोपण विशेषज्ञ डॉ. अरविंद पोसवाल का आलेखः 

जूते, कपड़े, बेल्ट आदि अगर आपकी उम्मीद के अनुकूल न हों तो आप कभी भी उनकी जगह दूसरे उत्पाद ला सकते हैं। मगर एक बार आपके सिर के बाल खराब हो गए तो उन्हें दोबारा पहले जैसे भी पाना आसान नहीं होगा। बार-बार बाल प्रत्यारोपण करवाने से कई दिक्कतें पेश आ सकती हैं। ना सिर्फ ये आपकी जेब पर भारी पड़ेगा बल्कि इसके कुछ अन्य दुखद परिणाम भी हो सकते हैं। कभी-कभी गलत तरह से किया गया बालों का प्रत्यारोपण ऐसी गंभीर जटिलताएं पैदा कर देता है जिन्हें ठीक कर पाना असंभव हो जाता है। गंजेपन के शिकार कुछ लोगों का मानना है कि बाल प्रत्यारोपण केवल वही लोग कराते हैं जिनके पास काफी पैसा होता है। हो सकता है कि कुछ जगहों पर इस काम के लिए काफी रुपए मांगे जाते हो, लेकिन हर जगह ऐसा नहीं है। थोड़ी कोशिश करने पर आपको सही जगह भी मिल जाएगी जहां यह काम अच्छी तरह किया जाता हो और चार्ज भी उचित तरीके से लिया जाता हो। 

सही विकल्प 
हर कोई इस परेशानी का सही इलाज करा पाने मे सक्षम नहीं हो पाता। बाल प्रत्यारोपण लाखों लोगों के लिए फायदेमंद साबित हुआ है। अकेले अमेरिका में गंजेपन के शिकार 6 करोड़ लोगों में से अधिकतर की पसंद बाल प्रत्यारोपण है। 

तकनीक 
बाल प्रत्यारोपण में जो नवीनतम तकनीकें आई हैं उन्हें फलिक्यूलर यूनिट हेयर ट्रांसप्लांट (एफयूएचटी) और फलिक्यूलर यूनिट सेपरेशन एक्स्ट्रेक्शन (एफयूएसई) कहते हैं। असंभव से दिखने वाले मामलों में भी इन के जरिए सफलता मिली है। इस तकनीक में अस्पताल में भर्ती होने की भी जरूरत नहीं पड़ती। 

एफयूएचटी तकनीक में सिर के पिछले हिस्से से बालों की एक पट्टी निकाली जाती है जिसे सिर के उस भाग में प्रत्यारोपित किया जाता हैं जहां गंजापन होता है। पूरी प्रक्रिया को मैग्निफाइंग तकनीक की मदद से किया जाता है। इस पूरी प्रक्रिया को तेज चाकू और लोकल एनस्थीसिया के अंतर्गत अंजाम दिया जाता है। सिर में लगा चीरा एक हफ्ते में ठीक हो जाता है। एफयूएसई में टांका लगाने की जरूरत नहीं पड़ती। इसमें किसी तरह के निशान लगने की भी आशंका कम ही होती है क्योंकि इसमे बालों की पट्टी न निकालकर एक-एक बाल को ही निकाला जाता है। इस पूरी प्रक्रिया में करीब 4 से 6 घंटे का समय लगता है। प्रक्रिया के बाद मरीज को बाल प्रत्यारोपण चिकित्सक की सलाह का पालन करना चाहिए। 

याद रखें 
सावधानी के साथ किसी अनुभवी बाल प्रत्यारोपण डॉक्टर को चुनें। बाल प्रत्यारोपण प्रक्रिया के लिए समय लेने से पहले एक ओपन हाउस मे जाएं जहां अन्य पीड़ितों से बात करके आपको सही डॉक्टर ढूंढ़ने और इलाज के बारे मे जानने में मदद मिलेगी(हिंदुस्तान,दिल्ली,21.12.11)।

5 टिप्‍पणियां:

  1. डरा तो दिया पर किस बात का डर है , यह नहीं बताया । :)
    वैसे हमने तो सुना था कि एक बल की कीमत ७५० रूपये होती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा चेताया है आपने ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम तो कभी नहीं कराएँगे ऐसी स्थिति आने पर भी नहीं..

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह लेख आज के युवा मन को मार्गदर्शन व उत्‍साहवर्धन करने में सहायक है ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. गंजेपन से छुटकारा पाने के लिए बहुत से नयी तकनीकें है , जिसने बाल दुबारा प्राप्त किया जा सकते हैं | भारत में से सबसे अनुभवी और बालों के उपचार के सभी तकनीकों में माहिर डा. मोहन सिंह जी फगवाड़ा के एनआरआई बाल प्रत्यारोपण केंदर में बहुत हे सस्ते दामों पर सुरक्षित एवं अच्छे नतीजे लेन वाला बाल प्रत्यारोपण उपचार कर रहे हैं |

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।