रविवार, 11 दिसंबर 2011

सर्दियों के खानपान में 5 चीज़ें हैं ज़्यादा ज़रूरी

सर्दियों का खानपान अलग होता है, यह तो आपने भी सुना होगा। कुछ ऐसा, जिससे शरीर को भरपूर पौष्टिक तत्व मिलें और आप बीमारियों से भी बचे रहें। इस बार हम ले कर आए हैं ऐसे 5 फूड टिप्स, जिन्हें आप दिनभर में भागते-दौड़ते भी अपना लेंगे तो भी जरूरी पोषक तत्व शरीर को मिल ही जाएंगे। 

सर्दियों में हमारे शरीर को कई तरह के पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। अगर ये इसे न मिलें तो शरीर रोगग्रस्त हो जाता है। कभी ये बीमारी छोटी होती है, जो बार-बार लौट आती है तो कभी इतनी बड़ी कि जानलेवा साबित होती है। ऐसे में अगर आप अपने खाने में 5 चीजों का ध्यान रखें तो आपकी कई शारीरिक व मानसिक परेशानियां अपने आप खत्म हो जाएंगी। न्यूट्रीशनिस्ट ईशी खोसला ने दिए आपके लिए ये टिप्स- 

डेयरीउत्पाद 
दिन में एक बार डेयरी उत्पाद अवश्य लें। दूध, दही, पनीर, चीज आदि में से किसी एक चीज का सेवन कर सकते हैं। डेयरी उत्पादों में अच्छे प्रोटीन, विटामिन और मिनरल होते हैं। यह कैलशियम से भरपूर होते हैं। लगातार इनके सेवन से हड्डियां मजबूत होती हैं। शरीर से अतिरिक्त फैट कम होता है। साथ ही इनमें शुगर लेवल कम होता है। कब, कितना और कैसे लें 
दूध का सेवन रात को खाने के बाद कर सकते हैं। गुनगुना दूध अधिक फायदेमंद होता है। रात में दही का सेवन नुकसानदेह साबित होता है। इससे कफ की समस्या भी हो सकती है। इसलिए इसके सेवन से बचें। 

हरी पत्तेदार सब्जी 
प्रतिदिन एक हरी पत्तेदार सब्जी का सेवन अवश्य करें। इनमें कैलोरी कम होती है। ब्रोक्कली, पालक, गोभी जैसी सब्जियों में आयरन, कैलशियम, पोटेशियम और मैग्नीशियम भरपूर मात्र में होता है। इनमें विटामिन के, सी, ई और कई तरह के विटामिन बी भी होते हैं। इनमें से विटामिन ‘के’ रक्त के थक्के बनने से रोकता है और कई बीमारियों जैसे आर्थराइटिस आदि से बचाव करता है। साथ ही नियमित तौर पर इन्हें लेते रहते से डायबिटीज का खतरा कई गुना कम हो जाता है। हरी पत्तेदार सब्जियां हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाती हैं। यह हमारी आंखों के लिए लाभदायक होती हैं और ब्रेस्ट व लंग कैंसर के रोकथाम में कारगर हैं। इन सब्जियों में फाइबर प्रचुर मात्र में होता है। कब, कितना और कैसे लें हरी पत्तेदार सब्जी को भोजन में सब्जी के तौर पर शामिल करें। इन्हें उबाल कर बनाएं तो बेहतर होगा। इनके पानी का सब्जी में प्रयोग करें। 

कहां से खरीदें 
हरी सब्जियां यूं तो आसपास की सब्जी मंडियों में मिल ही जाती हैं, लेकिन कुछ सब्जियां इन बाजारों में नहीं मिल पातीं। कमल ककड़ी और ब्रोक्कली जैसी सब्जियां शायद पास की सब्जी मंडी में न मिलें। तो इसके लिए आप अपने पास के रिटेल स्टोर में तो जा ही सकते हैं। 


हल्दी 
मसालों में हल्दी का सेवन करना बिल्कुल न भूलें। हल्दी को अच्छा एंटी-ऑक्सिडेंट, एंटी-बैक्टीरियल, पेट को साफ रखने वाला और लिवर और हृदय के लिए अच्छा माना जाता है। यह जोड़ों के दर्द को कम करती है और कैंसर पर नियंत्रण में मददगार है। 

ऐसे भी खाएं हल्दी 
-एक चम्मच में हल्दी और शहद मिला कर लें। इससे रक्त बढ़ता है। 

-एक कप दूध में थोड़ी-सी हल्दी मिला कर गर्म करें। गर्म दूध ही पीएं। यह अस्थमा में रामबाण है। 

-जलने पर एलोजेल में हल्दी मिला कर लगाएं। 

-दांत में समस्या होने पर एक चम्मच में हल्दी और आधा चम्मच नमक मिला कर मिश्रण बना लें। इससे दांतों में मंजन करें। 

कब, कितना और कैसे लें 
हल्दी को पीस कर ही प्रयोग में लाया जाता है। शहद के साथ लेना चाहें तो शाम के समय लिया जा सकता है। 

आंवला 
आंवला सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। यह विटामिन सी का प्राकृतिक स्त्रोत माना जाता है। इस छोटे से फल में दो संतरे के जितना विटामिन सी होता है। चूंकि विटामिन सी को अच्छा एंटी-ऑक्सिडेंट माना जाता है, इसलिए आंवला खाने का पहला फायदा यही है कि इसे लेने वाला जल्दी बूढ़ा नहीं दिखता। 

इसमें शुगर कम होती है और फाइबर अधिक होता है, इसलिए इसे प्रतिदिन खाने से पाचन तंत्र ठीक रहता है। अगर लंबे समय तक इसे लिया जाए तो यह पाचन तंत्र को मजबूत, स्वस्थ बनाता है और शरीर की इम्युनिटी को बढ़ाता है। इसके साथ-साथ आंवला प्रोटीन मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है, इसलिए अगर आप व्यायाम करते हैं तो आपको आंवले से काफी फायदा होगा। इसके अलावा जिन लोगों का वजन काफी तेजी से बढ़ जाता है, उनके लिए यह अच्छा है, क्योंकि मेटाबॉलिज्म (चयापचय) जितना अच्छा होगा, शरीर से वजन उतना ही कम होगा। 

आंवला लीवर को भी मजबूत करता है और शरीर से टॉक्सिंस बाहर निकाल देता है। इससे रक्त साफ होता है। इसीलिए आम्ला त्वचा के लिए भी अच्छा है। यह बालों के लिए भी अच्छा है। यह बालों की जड़ों को पोषण देता है और असमय बाल पकने की समस्या को रोकता है। इसके अलावा आंवला कोलेस्ट्रॉल को कम करने में भी सहायक है। 

ऐसे भी आजमाएं आंवला 


-आंवला और काले तिल को शहद या घी के साथ मिला कर लें। इससे मानसिक और शारीरिक कमजोरी दूर होती है। 


-दिमाग तेज करने के लिए आंवले का मुरब्बा, चीनी मिले दूध के साथ लीजिए। 


-आंवला जूस नेत्रों की रोशनी को अच्छा रखता है। 


-आंवले के तेल से सिर की मसाज करने से मानसिक कमजोरी दूर होती है। 


-रात को खाना खाने के बाद एक चम्मच आंवला पाउडर को शहद या घी के साथ लेने से एसिडिटी दूर होती है।


-आंवला पाउडर को नींबू के रस में मिला कर बालों में लगाएं और 10 से 15 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद बाल धो दें। बाल मजबूत और काले हो जाएंगे। 


कब, कितना और कैसे लें 
आंवले को आप मुरब्बे, चूर्ण या फिर जूस की तरह ले सकते हैं। चाहे तो कच्च आंवला भी नमक लगा कर खा सकते हैं। अगर मुरब्बा ले रहे हैं तो सुबह और रात को खाने के बाद दूध से लिया जा सकता है।


सूखे मेवे 
सूखे मेवे एनर्जी और पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। इनमें ओलिक और पेल्मिटोलिक एसिड होते हैं, जो एलडीएल या खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं और एचडीएल यानी अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाते हैं। इसके अलावा इनमें ओमेगा 3 एसिड होते हैं। ये ब्लड प्रेशर को ठीक रखते हैं। साथ ही एलजाइमर आदि बीमारियों से बचाव करते हैं। इनमें विटामिन ई होता है। 

कब, कितना और कैसे लें 
सूखे मेवों को आप दिन में खाने के बाद थोड़ा-थोड़ा करके दो या तीन बार ले सकते हैं। चाहें तो दूध के साथ भी इसका सेवन कर सकते है। 

इन बातों को रखें याद 
-अदरक को भी भोजन में नियमित रूप से शामिल करें। यह भूख बढ़ाता है। इस मौसम में शरीर को गर्मी देता है और पाचन क्रिया में सहायक है। 

-रोजाना एक फल का सेवन अवश्य करें। यह शरीर को आवश्यक विटामिन देते हैं। मौसमी फल का सेवन करना ही बेहतर होगा। आजकल तो इसका मौसम भी है। 

-कोशिश करें कि पांच रंगों के फल-सब्जियों को प्रतिदिन खाएं। ये अलग-अलग रंग के फल-सब्जी सभी पोषक तत्वों की पूर्ति में सहायक होते हैं। 

-लहसुन, प्याज और हरी मिर्च खाने में स्वाद तो बढ़ाती ही है, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी कारगर है। सूखे मेवों को आप दिन में खाने के बाद थोड़ा-थोड़ा करके दो या तीन बार ले सकते हैं। चाहें तो दूध के साथ भी इसका सेवन कर सकते है(आरती मिश्रा,हिंदुस्तान,दिल्ली,7.12.11)।

6 टिप्‍पणियां:

  1. आजकल सूखे मेवे बहुत महंगे हैं बाकी सब तो खा लिया जायेगा अच्छी जानकारी आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. You are doing a great job, appreciate! Very Informative and more than that Eye opener that by taking care of small things we can avoid big probs..thanks!:-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. आजकल हमारे चौपाल में हर प्रकारकी सब्जी मिल जाती है !
    अच्छी जानकारी दी है आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी जानकारी बहुत खूबसूरत है पर हम इन सब चीजों को रोज मर्रा की जिंदगी मैं ला ही नहीं पाते वर्ना हमें डॉ की जरुरत ही क्यु पढ़ती आपकी मेहनत से लिखी गई जानकारी का हम शुक्रिया करते हैं दोस्त हाँ अमल में लेन की भी कोशिश करेंगे जी | :)

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।