शुक्रवार, 20 मई 2011

पेट रोगों का इलाज़ करें गर्म-ठंडी पट्टी से

(सेहत,नई दुनिया,मई 2011 द्वितीयांक से साभार)

6 टिप्‍पणियां:

  1. जानकारी अच्छी दी है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस प्रक्रिया से कब्ज़ तो अवश्य दूर हो जाती होगी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमने नेचुरोपैथी और योगा में गाँधी जी द्वारा राजघाट दिल्ली में स्थापित संस्था से डिप्लोमा कोर्स भी किया है ।
    हमारे गुरू जी 83 साल की उम्र में आज भी मयूरासन जैसे कठिन आसन कर लेते हैं और प्राकृतिक चिकित्सा की बदौलत तंदुरूस्त रहते हैं।
    वे गर्म-ठंडी पट्टी के बहुत लाभ बताते हैं और मेहन स्नान के भी । एक रोज़ माथुर साहब से D. M. ऑफिस में हमारा मिलना हुआ तो उन्होंने हमसे मर्दानगी का नुस्ख़ा पूछ लिया हमने उन्हें मेहन स्नान बता दिया और हम भूल गए । दो एक माह बाद उनके पास फिर जाना हुआ तो उन्होंने जिन शब्दों में मेहन स्नान की तारीफ की , उन्हें यहाँ दोहराया नहीं जा सकता । बस हम इतना कहेंगे कि मेहन स्नान करने वाले को ताकत के लिए किसी दवा की जरूरत नहीं पड़ेगी और न ही वह कभी बूढ़ा होगा। यह स्नान औरतों के लिए भी लाभकारी है और उन्हें स्त्री रोगों से बचाता है ।

    कृप्या आप अपने किसी लेख में मेहन स्नान के बारे में भी जानकारी दें ।
    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  4. आभार इस जानकारी के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. पेट की बीमारिया तो आज काफी आम होती जा रही है शयद मिलावटी खाने के परिणाम सामने आ रहे है |

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।