मंगलवार, 31 मई 2011

तंबाकू की लत छुड़ाने वाली दवा हो सकती है सस्ती

तंबाकू की लत छोड़ने की जिद्दोजहद में लगे लोगों को यह जान कर राहत मिल सकती है कि इस कोशिश में मदद करने वाली दवाओं की कीमत घटाने की कोशिश की जा रही है। स्वास्थ्य सचिव के. चंद्रमौलि ने राष्ट्रीय औषधि मूल्य नियंत्रण प्राधिकरण (एनपीपीए) के अध्यक्ष को पत्र लिख कर इस संबंध में तुरंत कदम उठाने को कहा है। बीड़ी, सिगरेट और गुटखा सहित सभी तरह के तंबाकू उत्पादों की लत छुड़ाने की दवा इस समय काफी महंगी हैं। निजी क्षेत्र की दो बड़ी कंपनियां निकोटिन रिप्लेसमेंट थेरेपी की यह दवाएं बनाती हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने तंबाकू की लत से मुक्ति दिलाने में इन दवाओं के प्रभाव को देखते हुए इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों की पहुंच में लाने की कोशिश शुरू कर दी है। इसके लिए एनपीपीए को अनुरोध किया गया है। एनपीपीए रसायन और उर्वरक मंत्रालय के तहत आता है। यह आवश्यक दवाओं की श्रेणी में शामिल दवाओं के मूल्य की निगरानी करता है। साथ ही आवश्यक दवाओं की सूची के बाहर की दवाओं की कीमत भी बहुत अधिक नहीं हो, यह सुनिश्चित करता है। कुछ समय पहले स्वास्थ्य मंत्रालय ने ऐसी दवा बनाने वाली कंपनियों के अधिकारियों के साथ बैठक भी की थी। इस दौरान भी उनसे अनुरोध किया गया था कि वे इन दवाओं की कीमत कम करें(दैनिक जागरण,दिल्ली,31.5.11)।

5 टिप्‍पणियां:

  1. यहाँ भी सावधानी की ज़रुरत है । दवाओं का रोल तो सीमित ही होता है । छोड़ने के लिए आत्मबल और इच्छा शक्ति की आवश्यकता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच है आत्म-बल से हर बात संभव है ... आज ये संकल्प लेने का सही दिन है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी जानकारी ....कोशिश की जाये तो सब मुमकिन है....

    उत्तर देंहटाएं
  4. दराल साहब ने लाख टके की बात कही...

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।