गुरुवार, 28 अप्रैल 2011

निम्न रक्तचाप में लाभकारी है तालीयोग

ब्लड-प्रेशर की समस्या आज सबसे ज्यादा तेजी से बढऩे वाली समस्या है। कोई लो बीपी से परेशान है तो किसी को हाई बीपी ने अपने चंगुल में जकड़ रखा है। पूरी तरह से फिट व्यक्ति को ढूंढ पाना आज बेहद चुनौती का काम है। हर किसी को किसी न किसी बीमारी ने जकड़ रखा है।

अच्छी सेहत का मालिक होना करोडों की दौलत से ज्यादा मूल्यवान होता है। तभी तो इंसान बेहतर स्वास्थ्य पाने के लिये तमात तरह की कोशिशें करता है। आप इतना कुछ कर ही रहे हैं तो क्यों न आजमाएं इस बेहद कारगर तालीयोग को, जो पूरी तरह से सुरक्षित और बेहद आसान भी है।

गैस, कब्ज, अपच, मानसिक तनाव, एकाग्रता में कमी, चिड़चिड़ापन से पीडि़त हैं तो दायें हाथ की चार अंगुलियों को बाएं हाथ की हथेलियों पर जोर-से मारना चाहिए और इस अभ्यास को सुबह-शाम कम-से-कम 5 मिनट करना चाहिए। धीरे-धीरे हम इन रोगों से मुक्त हो जाएंगे।

निम्न रक्तचाप यानी लो बीपी के रोगियों को खड़े होकर दोनों हाथों को सामने लाकर ताली बजाते हुए नीचे से ऊपर की ओर गोलाकार घुमाएं और दिशा नीचे से ऊपर की ओर होनी चाहिए। यह निम्न रक्तचाप को सामान्य करने में बहुत ही लाभदायक तरीका है। ताली योग के द्वारा हृदय रोग, कमर दर्द, सरवाइकल जैसे रोग भी दूर होते हैं।

कैसे करें ताली योग 
दोनों हाथों की दसों अंगुलियों और हथेली को जोर-जोर से मारते हुए एक साथ एक ही जैसी आवाज में ताली योग का अभ्यास करें।

शुरू-शुरू में इसका अभ्यास कम-से-कम 2 मिनट अवश्य करना चाहिए और फिर इसको बढ़ाते हुए लगभग रोज 10 मिनट तक अभ्यास करना चाहिए(दैनिक भास्कर,उज्जैन,28.4.11)।

1 टिप्पणी:

  1. आपने जो ताली योग बताया है उसका आज से ही प्रचार करने की सोच रहा हूँ. जो भी मेरे संपर्क में रक्तचाप से पीड़ित मिलेगा उसे ऐसा दिव्य तरीका रास आयेगा... ऎसी उम्मीद है.

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।