गुरुवार, 3 फ़रवरी 2011

बहरेपन का योग से इलाज़

सुनने की क्षमता धीरे-धीरे कम होना बहरापन कहलाता है। कुछ लोग जन्म से ही बधिर होते हैं उनकी चिकित्सा संभव नहीं होती परंतु अधिक आयु के कारण, सर्दी-जुकाम सभी ऋतुओं में होने के कारण अथवा पेट के बल एक ही कान को बिस्तर से दबाकर सोने की आदत से धीरे-धीरे बहरापन आने की आशंका रहती है। कभी-कभी कान पर चोट लगने से भी बहरापन आने की आशंका होती है।

कान सुनने की क्षमता धीरे-धीरे खोने लगते हैं, जन्मजात तीन-चार प्रतिशत यह समस्या देखने में आती है। कानों के कम सुनने की क्षमता किसी भी आयु में हो सकती है। आजकल हेडफोन्स, मोबाइल, ऊँॅची आवाज में संगीत आदि से भी बहरापन आ रहा है। स्विमिंग पूल में या आसपास के व्यक्ति का संक्रमण लगने से सुनने की शक्ति कम होकर व्यक्ति बहरा हो सकता है। जल्दी से सर्दी-जुकाम का उपचार न करने से भी बहरापन हो सकता है।

बहरेपन के लक्षणों में कान से कम सुनने वाले लोग स्वयं जोर से बोलने लगते हैं तथा दूसरों से कोई बात सुननी हो तो बहुत ही पास में पहुँचकर दूसरे व्यक्ति से बात करते हैं या ऊँची आवाज में टीवी सुनने की कोशिश करते हैं। बहुत से लोग भीड़ में कुछ भी सुनने की क्षमता खो देते हैं। कान में अनेक प्रकार की आवाज आने की शिकायत व्यक्ति करते हैं। कोई भी व्यक्ति सामान्य आवाज से बात करता है तब बहरा व्यक्ति क्या-क्या करते हुए दूसरी बात या दोहराता या फिर से बात को बोलने के लिए कहता है। कान में खुजली होने के अनेक कारण हैं जैसे एक ही करवट पर संपूर्ण रात्रि के समय सोना, ऊँचे तकियों पर सोना, पेट के बल कान को तकिए में दबाकर सोना, सर्दी-जुकाम का आदि होना, रक्त के प्रवाह को रोकने से कान की नसों में थकते जमा होकर खुजली आती या कान बंद हो जाते हैं और आंतरिक कान में सूजन आकर सुनने की क्षमता कम होने लगती है।

निम्न योगाभ्यास करने से उम्र के अनुसार कान के सुनने की घटने वाली क्षमता को फिर से प्राप्त किया जा सकता हैः
ब्रह्ममुद्रा : कमर सीधी रखकर बैठें और गर्दन को ऊपर-नीचे १० बार चलाना, गर्दन को दाएँ-बाएँ १० बार चलाना और धीरे-धीरे गर्दन को गोल

घुमाना १० बार सीधे और १० बार उल्टे, आँखें खुली रखकर इस मुद्रा को करें।


मार्जरासन : घुटने और हाथों के बल चौपाए की तरह गर्दन कमर ऊपर-नीचे १० बार चलाएँ, जितना अधिक ऊपर देख सके देखें और सुबह-शाम करें।

शशकासन : घुटनों को जमीन पर मोड़कर नमाज पढ़ने जैसे बैठकर सामने झुकें और दाढ़ी को जमीन से लगाएँ और हाथों को सामने खेंच कर रखें १०-१५ श्वास-प्रश्वास होने तक इस स्थिति में रहें।

भुजंगासन : पेट के बल लेटकर पैर मिलाकर लंबे रखें और कंधों के नीचे हथेली को जमा कर गर्दन, सिर व नाभी तक पेट ऊपर उठाएँ और १०-१५ श्वास-प्रश्वास करें फिर जमीन पर पहुँचकर आराम करें। ३ बार इसे दोहराएँ।

अर्धशलभासन : पेट के बल लेटे हुए पीछे से १-१ पैर १०-१० श्वास-प्रश्वास के लिए उठाएँ और ३-३ बार दोहराएँ, पैर घुटने से न मोड़ें। 

उत्तानपादासन : पीठ के बल लेटकर दोनों पैर ४५ डिग्री पर अर्थात लेटे-लेटे बिना घुटने मोड़े ऊपर उठाएँ और १०-१५ श्वास-प्रश्वास करने तक ऊपर रोकें फिर धीरे-धीरे नीचे उतारें। ३ बार दोहराएँ। 

शवासन : पीठ के बल शरीर ढीला छोड़ें, आँखें बंद कर श्वास दीर्घ रूप से १० बार करें और साधारण ३० श्वास करें और करवट से उठें।

भ्रामरी प्राणासन : कमर सीधी करके बैठें, दोनों कानों को दोनों हाथों की तर्जनी उँगलियों से हल्के दबाव के साथ बंद करे। आँखें बंद कर लें और लंबी गहरी श्वास भीतर भरकर बारह श्वास नाक से निकालते हुए भँवरे की तरह आवाज जोर से करें, इतने जोर से करें कि मस्तिष्क, चेहरा और होंठों की मांसपेशियों में स्पंदन निर्माण हो सके। एक के बाद एक श्वास लेकर लगातार १० बार दोहराएँ। इससे कान की नसों में रक्त संचार बढ़कर और काम का परदा लोचदार होकर सुनने की क्षमता बढ़ती है। मन की एकाग्रता बढ़ती है और स्मरण शक्ति का विकास होने लगता है।

दृष्टिहीनों के भी है योग
दृष्टिहीनों के लिए पूर्ण रूप से स्वस्थ रहना भी एक महती समस्या है। चूंकि ये लोग मैदानी खेलकूद तथा दौड़ भाग नहीं कर सकते इसलिए शारीरिक गतिविधियों को बनाए रखने के लिए योग से बढ़कर कुछ और नहीं है। इससे इनके शरीर में स्फूर्ति बनी रहती र्है एवं चयापचय क्रिया भी दुरुस्त रहती है। 

दृष्टिहीनों के लिए योगाभ्यास कठिन नहीं होता उन्हें आसन, प्राणायाम और ध्यान सहज ही सिद्ध हो जाते हैं। 

दृष्टिबाधितों को योगासन ब्रेल लिपि में चित्र बनाकर समझाना ज्यादा आसान होता है। उनके पाचन संस्थान, श्वसन, रक्तसंचारण, निष्कासन आदि संस्थानों के क्रिया कलाप सुचारूरूप से काम करने लगते हैं। 

दृष्टिबाधितों के लिए मुख्य रूप से ताड़ासन, त्रिकोण आसन, हस्तपादासन, उत्करासन, अग्निसार क्रिया, कंधे, गरदन का संचालन, ब्रह्ममुद्रा, मार्जरासन, शशकासन, पद्मासन, योगमुद्रा, भुजंगासन, शलभासन, धनुरासन, सर्वांगासन एवं शवासन के साथ नाड़ी शोधन, भ्रामरी प्राणायाम किया जा सकता है। 

ध्यान की एकाग्रता से दृष्टिहीनों के मन में उदासीनता के भाव को कम किया जा सकता है। इससे उनकी कार्यक्षमता बढ़ाई जा सकती है। चाल में स्फूर्ति और अधिक आत्मविश्वास झलकता है। नियमित योगाभ्यास से दृष्टिबाधितों का हजमा ठीक हो कर अनावश्यक भूख पर नियंत्रण पाया जा सकता है। व्यक्तित्व के निखार में गर्दन, कमर सीधी रखने में सहजता होती है(डॉ. बी.के. बांद्रे,सेहत,नई दुनिया,जनवरी द्वितीयांक,2011)।

7 टिप्‍पणियां:

  1. आद. राधारमण जी,
    योग ने हर रोग के निदान का रास्ता दिखाया है !
    लोगों तक ऐसी उपयोगी जानकारी पहुंचाकर आप बहुत पुण्य का काम कर रहे हैं !
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  2. उपयोगी जानकारी...आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कान में आवाज होना भामरी के द्वारा बद हो सकती है

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरे कान में बहुत जोर जोर से अावाज होती हैं इसके लिए कोई दवाई हो तो सर मुझे कुछ बताए मैं इन अावाजो से बहुत परेशान हो सर मुझे कुछ बताए

    उत्तर देंहटाएं
  5. Mere ek kaan me fangas ho gayi thi jo dr.ne nikal di thi.
    Uske baad mera kaan normal ho gya tha.
    Ek hi din sahi raha fir next day kaan me seeti bajne lagi.
    Or tab se 1 months ho gya mujhe ek kaan se 50 % sunai de raha hai.
    Kya is yog se ye sab sahi ho sakta hai????

    उत्तर देंहटाएं
  6. Mere ek kaan me fangas ho gayi thi jo dr.ne nikal di thi.
    Uske baad mera kaan normal ho gya tha.
    Ek hi din sahi raha fir next day kaan me seeti bajne lagi.
    Or tab se 1 months ho gya mujhe ek kaan se 50 % sunai de raha hai.
    Kya is yog se ye sab sahi ho sakta hai????

    उत्तर देंहटाएं
  7. Mere ek kaan me fangas ho gayi thi jo dr.ne nikal di thi.
    Uske baad mera kaan normal ho gya tha.
    Ek hi din sahi raha fir next day kaan me seeti bajne lagi.
    Or tab se 1 months ho gya mujhe ek kaan se 50 % sunai de raha hai.
    Kya is yog se ye sab sahi ho sakta hai????

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।