रविवार, 6 फ़रवरी 2011

कमर दर्द में योग

आजकल युवाओं में विशेष तौर पर महिलाओं में कमर व पीठ दर्द की शिकायत आम बात हो गई है, जिसका मुख्य कारण अनियमित दिनचर्या है। अचानक झुकने, वजन उठाने, गलत तरीके से उठने-बैठने और सोने, व्यायाम न करने, वजन बढ़ने से कमर दर्द की समस्या बढ़ने लगी है।

कमर व पीठ दर्द को भगाने की सबसे अच्छी व सस्ती दवा है एक्सरसाइज। इसकी मदद से रीढ़ की हड्डी को सहारा देने वाली मांसपेशियों में खिंचाव उत्पन्न किया जाता है। अगर आप ऑफिस में काम करने के दौरान कई घंटे बैठी रहती हैं, तो आपका शरीर अकड़ जाता है और कंधे व गर्दन में दर्द होने लगता है। ऐसे में छोटी-छोटी बातों का ध्यान रख आप कमर दर्द की समस्या से निजात पा सकती हैं।

कमर दर्द के कारण
-कमर दर्द का मुख्य कारण मांसपेशियों पर अत्यधिक तनाव का होना है।
-अधिक वजन होने से भी कमर दर्द की समस्या होती है। अगर आपका वजन ज्यादा है, तो इसका प्रभाव पीठ, कमर के जोड़ों व मांसपेशियों पर होता है। इससे पहले कि आपका शरीर तमाम तरह के दर्द से घिर जाए, फौरन अपने वजन को कम करने के लिए तरीके खोजें।
-गलत तरीके से बैठने से भी कमर दर्द की समस्या होती है। इसलिए सही पोश्चर पर जरूर ध्यान दें।
-अगर आप हमेशा ऊंची हील के जूते आदि पहनती हैं, तो इससे भी कमर दर्द हो सकता है।

क्या करें
-भारी चीजों या किसी सामान को नीचे से उठाते समय अपनी उम्र के अनुसार, पहले घुटने को झुकाकर फिर उठाना चाहिए।
-कार चलाते वक्त सीट सख्त होनी चाहिए व साथ ही बैठने का पोश्चर भी सही रखें।
-पेट के बल नहीं सोना चाहिए। करवट लेकर सोते वक्त घुटने को थोड़ा मोड़कर सोना चाहिए।
-सुबह हमारी शारीरिक गतिविधियां अपेक्षाकृत ज्यादा होती हैं, क्योंकि इस दौरान हम उठने-बैठने के मामले में पूरी तरह सक्रिय रहते हैं। लेकिन जैसे-जैसे दिन बीतता है, हमारा शरीर थकान के चलते झुकता चला जाता है। जिससे बैक पेन की शिकायत बढ़ जाती है। अतः आप हर आधे घंटे का अलार्म लगा कर रखें, जिसके बजते ही आप यह चेक कर सकती हैं कि आप सही तरीके से बैठी हैं या नहीं।
-ऑफिस में काम करते समय कभी भी पीठ के सहारे न बैठें। अपनी पीठ को कुर्सी पर इस तरह टिकाएं कि यह हमेशा सीधी रहे। गर्दन को सीधा रखने के लिए कुर्सी में पीछे की ओर मोटा तौलिया मोड़ कर लगा सकती हैं ।
-हर आधे से एक घंटे के बीच एक मिनट के लिए जरूर खड़े हों। इस बीच हाथ-पैरों को झटकें और शरीर को थोड़ा बहुत हिलाएं। इसके अलावा बीच-बीच में थोड़ा टहल भी लें या फिर अपने बैठने की अवस्था बदल लें।
-यदि संभव हो सके तो काम के बीच में कुछ मिनट के लिए स्विस बॉल या जिम बॉल में बैठें। इससे कमर व पीठ में राहत मिलेगी।
-अगर आपकी मांसपेशियां सख्त हैं और आपके कभी अचानक उठने पर तेजी से दर्द का होना और लंबे समय तक बने रहना आम बात है, तो इसके लिए अपनी मांसपेशियों को नरम बनाने की कोशिश करें। इस कोशिश के तहत खिचांव से जुड़े व्यायाम करें। लेकिन ध्यान रखें जरूरत से ज्यादा खिचांव भी नुकसानदेह हो सकता है। इसलिए अपने एक्सपर्ट से इससे संबंधित जानकारी अवश्य लें।
(यासमीन मनक,अमर उजाला,4.2.11)

2 टिप्‍पणियां:

  1. एक बार फ़िर बहुत ही काम की जानकारी दी आपने । मुझे लगता है इस ब्लॉग को प्रिंट में आना चाहिए ...शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. उपयोगी जानकारी के लिए आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।