सोमवार, 17 जनवरी 2011

इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय का शोधःकैंसर सहित कई बीमारियों की काट है कुट्टू

नवरात्रि व्रत में खाए जाने वाला कुट्टू का आटा सिर्फ श्रद्धा के लिहाज से ही नहीं, बल्कि कैंसर सहित तमाम बीमारियों की काट के लिहाज से भी महत्वपूर्ण है। गुरु गोबिंद सिंह इंद्रप्रस्थ विश्वविद्यालय की छात्रा सोनिया मान ने अपने शोध से यह परिणाम खोजे हैं। सोनिया ने शोध से यह पाया गया कि कुट्टू का नियमित सेवन ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने, डायबिटीज को कम करने के साथ-साथ वजन घटाने में भी काफी कारगर साबित होता है।

आईपीयू के यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ बायोटेक्नॉलॉजी (यूएसबीटी) की छात्रा सोनिया मान ने बताया कि उन्होंने एमटेक के प्रोजेक्ट के तहत यूएसबीटी के डीन प्रो. राजिंदर कुमार गुप्ता के निर्देशन में यह शोध किया। शोध जनवरी २००९ में शुरू हुआ था और जुलाई २०१० में पूरा हुआ। शोध के तहत करीब ३० लोगों को लगातार कुट्टू का प्रयोग कराया गया और पाया गया कि कुट्टू के आटे में ऐसे तमाम तत्व मौजूद हैं जो तमाम बीमारियों को नियंत्रित करने, उनसे लड़ने और उनकी रोकथाम करने में सहायक हैं। कुट्टू में बड़ी मात्रा में प्रोटीन होता है जबकि ग्लूटेन नहीं होता, इससे कोलेस्ट्रॉल घटाने में मदद मिलती है। इसमें एल्कोलोइड और टेनेन बहुत अधिक होता है जो कैंसर की रोकथाम में सहायक है। मैग्नीशियम की अधिक मात्रा होने से कुट्टू हृदय को स्वस्थ बनाता है। इसमें ७५ फीसदी कार्बोहाइड्रेट और २५ फीसदी उच्चस्तरीय प्रोटीन होता है जो वजन घटाने में काफी सहायक है। इसमें मौजूद न्यूट्रियंट ब्लड ग्लूकोज को घटाते हैं जो डायबिटीज की रोकथाम में काफी सहायक है। इसके नियमित तौर पर भी इस्तेमाल करने से कई रोगों से छुटकारा पाया जा सकता है।

कुट्टू में क्या-क्या है लाभदायक
तत्व-मात्रा
विटामिन बी प्रचुर मात्रा में
फास्फोरस २३१ ग्राम/किलोग्राम
पोटेशियम २४१ ग्राम/किलोग्राम
मैग्निशियम १८२ ग्राम/किलोग्राम
कैल्शियम ७५ ग्राम/किलोग्राम
सोडियम १२.६ ग्राम/किलोग्राम
कार्बोहाइड्रेट ७५ फीसदी
उच्चस्तरीय प्रोटीन २५ फीसदी(अमर उजाला,दिल्ली,16.1.11)

1 टिप्पणी:

  1. अच्छी जानकारी, लेकिन कुट्टू किसे कहते है?

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।