मंगलवार, 9 नवंबर 2010

क्या आप जल्दी थक जाते हैं?

असंतुलित खाना और अनियमित दिनचर्या का हमारी शारीरिक ऊर्जा पर काफी बुरा प्रभाव पड़ा है। इसी वजह से अधिकांश लोगों के साथ थकान की समस्या बनी रहती है। ऑफिस कार्य ज्यादातर बैठे रहने वाला होता है ऐसे में बैठे-बैठे भी थकावट महसूस होने लगती है।
ऐसे में कई अन्य समस्याएं शुरू हो जाती है शरीर की रोगप्रतिरोधी क्षमता घटती जाती है। इन सभी से बचने के लिए जरूरी है कुछ व्यायाम जरूरी है।
थकान से बचने के लिए सबसे सरल और कारगर उपाय है भूनमनासन। इस आसन से कुछ ही दिनों में आपकी थकान दूर हो जाएगी और हर कार्य पूरी स्फूर्ति के साथ कर सकेंगे। यह आसन कमर और रीढ़ के लिए काफी लाभदायक है। इसमें हम शरीर को पीछे या आगे की ओर न झुकाकर दाएं या बाएं घुमाते हैं। इससे लंबे समय तक बैठने या खड़े होने से आई थकावट दूर होती है। यदि आपको डांस का क्रेज है और आप अपने शरीर को लचीला बनाना चाहते हैं तो आपके लिए भूनमनासन श्रेष्ठ आसन है। यदि असंतुलित खान-पान के चलते आपकी कमर बेडोल हो गई है तो यह आसन जरूर करें। भूनमनासन की विधि: भूनमनासन के लिए समतल स्थान पर कंबल, चटाई या दरी बिछाकर बैठ जाएं। अपने दोनों पैरो को दोनों बगल मे जितना संभव हो फैलाएं। फिर आगे की ओर झुकते हुए दोनों हाथों को फैलाकर दोनों पैर के पंजों को या अंगूठे को पकड़ लें। अब सांसों को छोड़ते हुए धीरे-धीरे अपने शरीर को आगे की ओर झुकाकर सिर को फर्श पर टिकाने की कोशिश करें। साथ ही कंधें और छाती को भी फर्श पर लगाकर लेट जाएं। इस स्थिति में तब तक रहें, जब तक आप रहना चाहें। इस आसन के अभ्यास के शुरुआत में पैरों को फैलाने में परेशानी हो तो, पैरों को उतना ही फैलाएं जितना संभव हो। इसका अभ्यास करें और धीरे-धीरे पैरों को अधिक फैलाने की कोशिश करें। जैसे-जैसे अभ्यास का समय बढ़ेगा आप इस आसन की पूर्ण स्थिति प्राप्त कर लेंगे। भूनमनासन के लिए सावधानियां: - इस आसन को सभी आसनों के अंत में करें। - भू-नमनासन करते समय अपना ध्यान पीठ और कंधे की मांसपेशियों पर लगाकर रखें। - आसन के दौरान कोशिश करें कि रीढ़ की हड्डी सीधी रहे और शरीर का वजन हाथों पर आए। - इससे रीढ़ की हड्डी और कमर के निचले हिस्से का तनाव कम होता है। - गर्भवती महिलाएं शुरूआत के तीन महीनों तक इस आसन का अभ्यास कर सकती हैं। इसके बाद इस आसन को न करें। - जिन लोगों को हार्नियां और अल्सर की परेशानी हो वे भी इस आसन को न करें। -यह आसन उच्च रक्तचाप या ब्लड प्रेशर की समस्या वालों नहीं करना चाहिए। साथ ही जिन्हें हृदय रोग, कमर दर्द व गर्दन दर्द जैसी बीमारी हो वे भी इस आसन को किसी प्रशिक्षक या डॉक्टर आदि से सलाह लेकर ही करें। (दैनिक भास्कर,उज्जैन,30.8.2010) भूनमनासन की वीडियो यहां है

1 टिप्पणी:

  1. लाभप्रद जानकारी के लिए धन्यवाद. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।