शनिवार, 27 नवंबर 2010

स्वास्थ्य बीमे के कागज रखें तैयार

आज की दौड़-भाग भरी जिंदगी में अकसर कोई बीमारी या शारीरिक समस्या हमें घेर लेती है। महंगाई के इस दौर में इलाज पर कितना खर्चा बैठ जाए, कोई नहीं जानता। इसी के समाधान के लिए आजकल लोग हेल्थ इंश्योरेंस या मेडिक्लेम पॉलिसियां ले रहे हैं। हेल्थ इंश्योरेंस के जहां कई फायदे हैं, वहीं कई तरह के नियम-शर्तें भी इससे जुड़े होते हैं, जिनका ध्यान रखना जरूरी होता है।

क्या होते हैं फायदे
सबसे बड़ा फायदा यह है इसमें पॉलिसीधारक इलाज के खर्च का भुगतान बीमा कंपनी करती है। कुछ पॉलिसियां ऐसी भी होती हैं, जिनमें भुगतान खुद करने के बाद पॉलिसीधारक बीमा कंपनी से क्लेम प्राप्त करता है। कैशलेस इलाज वाले इंश्योरेंस प्लान आजकल ज्यादा लोकप्रिय हो रहे हैं। इसकी वजह यह है कि इसमें अस्पताल में दाखिल होने पर आपको या परिवार वालों को बिल के भुगतान के लिए पैसे जुटाने की चिंता नहीं करनी पड़ती, जोकि एक बड़ी राहत होती है।

जरूरी है सावधानियां बरतना
बीमा कंपनी द्वारा बिल या क्लेम के भुगतान की बात ऊपरी तौर पर बहुत सीधी और सरल लगती है, पर हकीकत यह है कि इसमें कई तरह की सावधानियां बरतना जरूरी होता है। इनका पालन न करने पर बीमा कंपनी से अस्पताल के बिल का भुगतान या क्लेम पाना मुश्किल हो सकता है। बीमे की शर्तों व नियमों का उल्लंघन करने पर आप भुगतान से वंचित भी हो सकते हैं।

इन बातों का रखें ख्याल
अगर आप तयशुदा ढंग से अस्पताल में भर्ती होकर बीमारी का इलाज करा रहे हैं तो भर्ती होने के तीन-चार दिन पहले ही कंपनी को आवेदन देकर सूचित कर दें। आकस्मिक परिस्थिति में भर्ती होने पर 24 घंटे के भीतर कंपनी को सूचना मिल जानी चाहिए। यह तभी संभव है, बीमे और उससे जुड़ी औपचारिकताओं के बारे में आपने परिजनों को जानकारी दे रखी हो। ऐसे अस्पताल में इलाज कराने पर, जहां कैशलेस सुविधा उपलब्ध न हो, कंपनी को जल्द से जल्द सूचना देने में खास ध्यान देना चाहिए।

क्या हैं जरूरी कागजात
कंपनी की ओर से बिल भुगतान क्लेम पाने के लिए जरूरी कुछ अहम दस्तावेज इस प्रकार हैं-
1-बीमारी के बारे में अस्पताल या नर्सिंग होम द्वारा जारी पर्ची
2-भर्तीकरण के लिए डॉक्टर की लिखित परामर्श
3-अस्पताल की डिस्चार्ज समरी
4-मेडिकल फिटनेस सार्टिफिकेट
5-इलाज से संबंधित जांच रिपोर्टें
6-खरीदी गई दवाओं की पर्ची
7-डाक्टर की पर्ची सहित हस्ताक्षरित दावा पत्र
8-पॉलिसी दस्तावेज की प्रतिलिपि
(अमर उजाला,21.11.2010)

2 टिप्‍पणियां:

  1. सही कहा आपने क्योंकि कंपनी की ओर से बिल भुगतान क्लेम पाने के लिए होगी इसकी दरकार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जानकारी के लिए आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।