मंगलवार, 19 अक्तूबर 2010

फिटनेस बनाती है आकर्षक

स्वास्थ्य के संबंध में हमें तमाम सर्वेक्षण, सच्चाइयां और भ्रांतियां एक साथ अपने इर्द-गिर्द दिखाई, सुनाई देती हैं। मसलन, कहीं पढऩे में आता है कि खड़े रहने से शरीर में ज्यादा कैलोरीज की खपत होती है। अब जरा सोचिए जो लोग दिनभर खड़े रहने का काम करके अपनी आजीविका चलाते हैं क्या वह पूरी तरीके से फिट होते हैं? दरअसल, फिट रहने के लिए लगातार प्रेरणा की ज़रूरत होती है। कई व्यक्ति हमेशा प्रेरित रहते हुए अपने को फिट रखते हैं। फिट रहने वाले व्यक्ति आकर्षक लगते हैं और फिटनेस के बिजनेस में यह एक महत्वपूर्ण चीज है यानी फिट होने के साथ आकर्षक होना चाहिए। वास्तव में फिट रहने में शारीरिक संरचना का भी महत्व है। जिन लोगों की लंबाई कम होती है वह यदि अपने वजन पर ध्यान न दें तो वह दिखने में भद्ïदे लगते हैं। कम लंबाई के पुरुष यदि अपने बढ़े हुए पेट पर ध्यान न दें तो उनका नीचे का हिस्सा पतला दिखाई देता है। कम लंबाई के पुरुषों को हमेशा अपने पतले रहने की ओर ध्यान देना चाहिए। ज्यादा लंबाई वाले पुरुष अपने वजन को बढ़ाकर अपनी लंबाई और बॉडी टाइप में संतुलन बना सकते हैं। जिन लोगों के ऊपर का हिस्सा ज्यादा भारी होता है और उनकी लंबाई कम होती है उनकी गर्दन छोटी लगती है। इसलिए लंबाई और वजन के बीच एक निश्चित संतुलन बनाकर रखें। आजकल पुरुषों में सिक्स पैक्स की चाह बढ़ी है। सिक्स पैक बनाना बेहद कठिन काम है। इसे बनाने के लिए सही एक्सरसाइज, सही वर्कआउट और सही डाइट प्लान का होना ज़रूरी है। चिकित्सक आमतौर पर सिक्स पैक न बनाने की सलाह देते हैं। सिक्स पैक का शरीर पर बुरा प्रभाव होता है। यह हमारे स्वास्थ्य के लिए सही नहीं होते। आमतौर पर भारतीय भोजन को अच्छे स्वास्थ्य के लिए बुरा करार दिया जाता है मगर मूल रूप से यह बुरा नहीं है। यह बुरा हो जाता है स्वादिष्ट बनाने के चक्कर में। भारत में गेहूं से बनी चपातियों में पर्याप्त फाइबर होता है। राजस्थान की ज्वार और बाजरे की रोटियां हों या पंजाब की मक्का की रोटी यह सभी हमारी पाचन क्रिया के लिए फायदेमंद होती हैं, लेकिन इनके साथ हम स्वाद बढ़ाने के लिए जब ढेर सारा मक्खन और घी खाते हैं तभी गड़बड़ हो जाती है। स्वस्थ रहने के लिए वास्तव में हमें विभिन्न खानों को मिलाजुला कर मिक्स और मैच की नीति के तहत खाने चाहिए। इस मिक्स एंड मैच में देशी-विदेशी दोनों तरह के खानों को भी मिलाया जा सकता है। मक्खन और घी से एक सीमा के बाद दूरी बनाकर रखें। जो लोग दिनभर बैठकर काम करते हैं उन्हें इस तरह का भोजन लेना चाहिए जिससे मोटापा न बढ़े। वह दिन में भले कई बार खायें, लेकिन उन्हें कम मात्रा में खाना चाहिए। जो लोग स्वस्थ रहने के लिए सप्लीमेंट्ïस का इस्तेमाल करते हैं उन्हें इस तथ्य की ओर ध्यान देना चाहिए कि सप्लीमेंट्स में शूगर काफी ज्यादा होती है, इसलिए चिकित्सक की सलाह पर ही सप्लीमेंट्ïस लिए जाने चाहिए। अपने को फिट रखने के लिए पैदल चलना एक अच्छी एक्सरसाइज है। इसके द्वारा अपने वजन पर लगातार नियंत्रण रखा जा सकता है। जो लोग जोड़ों के दर्द से परेशान रहते हैं उन्हें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि पैदल चलना कहीं उनके लिए नुकसानदेह तो नहीं। सिगरेट और शराब पीना हमारी कार्यक्षमता को कम करते हैं। बहरहाल, फिट रहने के लिए ये टिप्स आजमाए जा सकते हैं— ० सुबह सोकर उठने के बाद गहरी सांस लें ताकि हृदय की मांसपेशियां सुचारु रूप से कार्य कर सकें। ० जितना हो सके पैदल चलें। कार्यस्थल पर हर समय इंटरकॉम इस्तेमाल करने की बजाय अपने सहकर्मी के पास चलकर जायें। ० हाथों और पैरों की एक्सरसाइज करें। ० प्रतिदिन सूर्य नमस्कार करें। यह शरीर के लिए एक संपूर्ण वर्कआउट है। (डॉ. माजिद अलीम,दैनिक ट्रिब्यून,19.10.2010)

1 टिप्पणी:

  1. अच्छी जानकारी दी है आपने। देखता हूं सूर्य नमस्कार करके।

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।