सोमवार, 21 जून 2010

चलेगी बेमेल ब्लडग्रुप की किडनी

किडनी बदलने के लिए सही ब्लडग्रुप के डोनर का इंतजार करना नहीं पड़ेगा। चेन्नई के एमआईओटी अस्पताल के विशेषज्ञों का दावा है कि मेल न खाने वाले ब्लडग्रुप के डोनर की किडनी भी मरीज को प्रत्यारोपित की जा सकती है। यह दावा बी ब्लडग्रुप के एक मरीज की किडनी ओ ब्लडग्रुप के मरीज से बदले जाने की प्रक्रिया के सफल रहने के बाद किया गया है। अस्पताल के संस्थापक पीवीए मोहनदास ने कहा कि इस उपलब्धि से किडनी बदलने की प्रक्रिया में क्रांति आने की उम्मीद है। इससे रक्तसंबंधियों के अलावा अन्य व्यक्तियों की किडनी भी प्रत्यारोपण के काम आ सकेगी। इसके लिए जापान में विकसित तकनीक पहली बार देश में अपनाई गई है। इसमें डबल फिल्ट्रेशन प्लाज्माफेरेसिस की मदद से एंटीबॉडीज को हटा दिया जाता है। (दैनिक भास्कर,20.6.2010)

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत उपयोगी जानकारी है धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  2. कईयों का कष्ट दूर हो जाए। अगर ये तकनीक सारे अस्पताल बांट लें। कम पैसे वालो का भी भला हो जाएगा।

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।