सोमवार, 31 अक्तूबर 2011

क्यों ज़रूरी है आयोडीन?

आयोडीन की कमी से विभिन्न प्रकार की समस्याएँ हो सकती हैं जैसे गूँगापन, बहरापन, भेंगापन, समय पूर्व जन्म, गर्भपात, तंत्रिका तंत्र एवं अन्य मानसिक व शारीरिक व्याधियाँ। आयोडीन की कमी से बच्चे मतिमंदता और उदासीनता के शिकार हो सकते हैं।  

आयोडीन की कमी मस्तिष्क को बुरी तरह प्रभावित करती है। थायरॉइड हारमोन के लिए आयोडीन अत्यावश्यक होता है। यह चयापचय को नियमित करने और मानसिक व शारीरिक विकास के लिए ज़रूरी होता है। आयोडीन रासायकि तत्व है जो समुद्र के जल में काफी मात्रा में उपलब्ध होता है, इसके अलावा भूमि और ताज़े जल में मिलता है। आयोडीन थायरॉइड हारमोन के रासायनिक ढाँचे का ज़रूरी अंग है। थायरॉइड हारमोन विभिन्न रासायनिक प्रक्रियाओं पर प्रभाव डालता है। प्रोटीनों के निर्माण में यह शामिल होता है।  स्वस्थ रहने के लिए शरीर में थायरॉइड हारमोन का संतुलित स्तर में होना आवश्यक है।  

 नदियों में पाई  जाने वाली मछलियों में आयोडीन की मात्रा उस जल के आयोडीन की मात्रा उस जल के आयोडीन स्तर पर निर्भर करती है। खाद्य नमक(सोडियम क्लोराईड) में प्राकृतिक रूप से आयोडीन नहीं पाया जाता है। आयोडीन की कमी के दुष्प्रभावों से बचने के लिए नमक में आयोडीन ऊपर से मिलाया जाता है। आयोडीन शरीर के लिए आवश्यक है लेकिन इसकी अधिकता से भी बचना चाहिए अन्यथा थॉयराइड संबंधी समस्या उत्पन्न हो सकती है। आयोडीनयुक्त और आयोडीनमुक्त-दोनों ही प्रकार के नमक उपलब्ध होते हैं। आयोडीनयुक्त नमक का रोज़ाना सेवन किया जाय तो आयोडीन की कमी से होने वाली अधिकांश बीमारियों को आसानी से रोका जा सकता है। 

आयोडीन की मात्रा वाला आहार 
उम्र-मात्रा (प्रतिदिन) 
०-१२ महीने ५० माइक्रोग्राम 
२-६ वर्ष ९० माइक्रोग्राम 
७-१२ वर्ष १२० माइक्रोग्राम 
१२ वर्ष से अधिक १५० माइक्रोग्राम 
 नोटःदूध पिलाने वाली महिलाओं को २०० माइक्रोग्राम आयोडीन लेना चाहिए(डॉ. इकबाल मोदी,सेहत,नई दुनिया,अक्टूबर तृतीयांक 2011)।
--------------------------------------------------------------------------------------------------------
कल सुबह सात बजे पढ़िएः 


डायरिया से जुड़ी ज़रूरी जानकारियां

11 टिप्‍पणियां:

  1. शरीर के लिए एक अतिउपयोगी तत्व के बारे में अति महत्वपूर्ण आलेख।

    उत्तर देंहटाएं
  2. काफी काम की जानकारी है !
    आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी जानकारी ... पर कुछ लोगों का कहना है कि आयोडीन युक्त नमक का प्रयोग करने पर भी उसका लाभ नहीं मिलता ..खाना बनाने में आयोडीन के तत्व नष्ट हो जाते हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छी जानकारी हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही बढ़िया जानकारी कभी थ्यरोइड संबन्धित जानकारी भी दीजिये मुझे thyroid है

    उत्तर देंहटाएं
  7. आयोडीन की कमी से हाइपोथायरायडिज्म होता है । लेकिन आजकल आयोडीन युक्त नमक मिलने से यह समस्या काफी हद तक कम हो चुकी है ।
    पल्लवी जी , थायरायड कोई बीमारी नहीं है । लेकिन थायरायड हॉर्मोन कम या ज्यादा होने से प्रोब्लम होती है । इनका पूर्ण उपचार उपलब्ध है ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. डा. दराल, परन्तु जमीनी सच्चाई यह है की जबसे आयोडीनयुक्त नमक का सेवन शुरू हुआ है तबसे थायराइड की मरीज की संख्या में बेतहासा बृद्धि हुआ है ! नमक लाबी और और बुद्धिहीन डा. के मुनाफा खोरी के कारन आम जनता के सेहत के साथ खिलबार हो रहा है !
    आयोडीन की कमी से एक व्यक्ति बीमार है, उसे आप आयोडीन दे ये तो समझ में आता है, परन्तु पुरे गाँव को आप आयोडीन खिला कर गाँव की सेहत बना रहे है या बिगाड़ रहे है ? हाँ नमक कंपनी की सेहत बनाना हो तो बात अलग है !

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।