बुधवार, 10 मार्च 2010

लेमनग्रास और माइग्रेन

माइग्रेन से सिर मे भयंकर पीड़ा होती है। एक ताजा अध्ययन में पाया गया है कि लेमन ग्रास में सिरदर्द और माइग्रेन को छु़ड़ाने का प्रभावकारी गुण होता है । इस संबंध मे आज नई दुनिया के दिल्ली संस्करण के अनुसार,ग्रिफीथ यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यह प्रमाणित किया है कि लेमन ग्रास जो सिंबोपोगोन पौधों में पाया जाता है, एस्प्रीन की तरह काम करता है । लेमन ग्रास एक तरह का खट्टेदार पत्ता है । शोधकर्ताओं का कहना है कि सिरदर्द और माइग्रेन हमारे शरीर में असामान्य गतिविधियों को जन्म देता है ।
इससे हमारे सेरोटोनिन के स्तर में बदलाव आ जाता है और ब्लड प्लेटलेट्स पर भी असर डालता है । प्लेटलेट्स किसी घाव को दुरुस्त करने में साथ मिलकर काम करता है । इससे कभी-कभी आंतरिक थक्का बन जाता है जो जीवन को ही जोखिम में डाल देता है जिससे ब्रेन में ऑक्सीजन कम पहुंचने लगती है । परिणामस्वरूप स्ट्रोक की संभावना ब़ढ़ जाती है। शोधकर्ताओं ने पौधों से लेमन ग्रास को निकाल कर मनुष्य के प्लेटलेट्स पर प्रयोग किया ।

2 टिप्‍पणियां:

  1. आपका यह प्रयास हिन्दी और आम जनता के लिये बहुत उपयोगी है। लिखते रहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हमें लेमनग्रास की खेती की पूरी जानकारी चाहिए मदद करने की कृपा करें

    उत्तर देंहटाएं

एक से अधिक ब्लॉगों के स्वामी कृपया अपनी नई पोस्ट का लिंक छोड़ें।